भारत समेत दुनिया के कई देशों में कोरोना ने तबाही मचाई है। भारत में तो पिछले साल दूसरी लहर के दौरान कई मौतें हुईं हैं। हालांकि तीसरी लहर के दौरान देश में कोई खास असर नहीं हुआ। लेकिन, कोरोना वायरस शुरू से ही अपनी रूप बदलता रहा है। इसके कई वेरिएंट जैसे डेल्टा और ओमिक्रॉन लोगों को देखने को मिले हैं। लेकिन अब घबराने की जरूरत नहीं क्योंकि वैज्ञानिक एक ऐसी वैक्सीन बना रहे हें जो इस बीमारी के सभी वेरिएंट में असर करेगी। इस वैक्सीन को यूनिवर्सल वैक्सीन कहा जा रहा है।

यह भी पढ़ें : लाखों दिलों पर राज करती है असम की ये एक्ट्रेस, ऐसे मनाया अपनी मां का बर्थडे


यूनिवर्सल वैक्सीन का मतलब एक ऐसी वैक्सीन से है, जो कोरोना के सभी वेरिएंट से लड़ने में मदद करे। आपको बता दें कि वैज्ञानिक एक दशक से भी ज्‍यादा समय से यूनिवर्सल फ्लू शॉट बनाने की कोशिश कर रहे हैं। 2019 में एक वैक्‍सीन के ट्रायल शुरू हुए थे मगर अभी तक इसे मार्केट के लिए मंजूरी नहीं दी गई है। फाउची और अन्‍य एक्‍सपर्ट्स का मानना है कि कोविड वेरिएंट्स और भविष्‍य के कोरोना के लिए यूनिवर्सल वैक्‍सीन जल्‍द नहीं आ पाएगी। लेकिन नई रिसर्च बताती है कि ऐसी वैक्‍सीन बनाना संभव है।

यह भी पढ़ें : बेहद खूबसूरत हैं अ​सम की एक्ट्रेस Barsha Rani Bishaya, तस्वीरें देख आ जाएगा दिल


यूनिवर्सल वैक्‍सीन में वायरस के उन हिस्‍सों पर वार किया जाएगा जो वेरिएंट बदलने पर भी एक जैसे रहते हैं। अगर इम्‍यून सिस्‍टम को इन हिस्‍सों की पहचान में ट्रेन कर लिया जाए तो इस तरह की वैक्सीन बनाई जा सकती है। आपको बता दें कि अमेरिकी सेना का वॉल्‍टर रीड आर्मी इंस्टिट्यूट ऑफ रिसर्च अपनी पैन-कोरोना वायरस वैक्‍सीन के फेज 1 नतीजों का इंतजार कर रहा है। इसके अलावा DIOSyn नाम की एक कंपनी भी ऐसी ही वैक्‍सीन डिवेलप कर रही है. उम्मीद की जा रही है कि यूनिवर्स वैक्सीन जल्द ही तैयार होगी।