उत्तर प्रदेश में मंद पड़ती कोरोना संक्रमण की रफ्तार के बीच पॉजिटिविटी दर शून्य दशमलव तीन फीसदी रह गयी है, जबकि तेजी से स्वस्थ हो रहे मरीजों के चलते रिकवरी दर 98 प्रतिशत हो गयी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को टीम -09 की बैठक में कहा कि प्रदेश में कोरोना महामारी का असर कम हुआ है। सभी जिलों में स्थिति नियंत्रण में है। पॉजिटिविटी दर मात्र 0.3 प्रतिशत रह गई है, जबकि रिकवरी दर बेहतर होकर 98 फीसदी हो गया है। 

प्रदेश में कुल 12,959 कोरोना मरीजों का उपचार हो रहा है। पिछले 24 घंटे में कोविड संक्रमण के 709 नए केस आए हैं। इसी अवधि में 1,706 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज भी हुए हैं। अब तक कुल 16 लाख 66 हजार लोग कोरोना संक्रमण से स्वस्थ हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट की नीति के अनुरूप उत्तर प्रदेश की नीति के संतोषप्रद परिणाम मिल रहे हैं। बीते 24 घंटों में 02 लाख 89 हजार 809 टेस्ट हुए। इसमें 129000 सैम्पल आरटीपीसीआर के माध्यम से जांचे गए। अब तक यहां 05 करोड़ 21 लाख 19 हजार 163 सैम्पल की टेस्टिंग हुई है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीते 24 घंटे में चार लाख 30 हजार 617 लोगों को टीका-कवर मिला है, इनमें से दो लाख 29 हजार 994 लोग 18 से 44 आयु वर्ग के हैं। प्रदेश में अब तक दो करोड़ 11 लाख 50 हजार 258 वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि आगामी 21 जून से सभी आयु वर्ग के टीकाकरण के लिए केंद्र सरकार द्वारा वैक्सीन उपलब्ध कराने से अभियान को और गति मिलेगी। निजी अस्पतालों को सीधे टीका खरीदने की अनुमति दी गई है। उनसे भी समन्वय बनाया जाए। जिन औद्योगिक समूहों ने वैक्सीनेशन में सहयोग की इच्छा जताई है, उन्हें यथासंभव पूरी सहायता उपलब्ध कराई जाए। 

योगी ने कहा कि बरसात का मौसम शुरू हो रहा है। इस समय इंसेफेलाइटिस जैसी जल जनित बीमारियों के प्रसार का खतरा है। हमें बिना देरी किये बचाव और रोकथाम के काम तेज करना होगा। सर्विलांस को बेहतर करने के विशेष प्रयास हों। स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ ग्राम्य विकास और बाल विकास पुष्टाहार आदि विभाग एक्टिव रहें। उन्होने लोगो को चेताया कि कोविड संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में है। संक्रमण कम हुआ है। स्थिति सामान्य हो रही है। ऐसे में हर प्रदेशवासी की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। हमें यह समझना होगा कि वायरस कमजोर हुआ है, खत्म नहीं हुआ। संक्रमण कम हुआ है, पर जरा सी लापरवाही संक्रमण को फिर बाधा सकती है। सभी लोग मास्क, सैनिटाइजेशन, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कोविड बचाव के व्यवहार को जीवनशैली में शामिल करें। बहुत जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें। भीड़ से बचें। पुलिस बल सक्रिय रहे।