शोधकर्ताओं की एक टीम ने अपनी रिसर्च में पाया है कि इस कोरोना टाइम में अच्छी तरह से फिट, तीन लेयर वाला कपड़े का मास्क, सर्जिकल मास्क जितना ही प्रभावी साबित हो सकता है। यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल और सर्वे टीम ने पाया कि आदर्श परिस्थितियों और तीन लेयर वाला कपड़े का फिट मास्क आप पहने हुए है तो वह सर्जिकल मास्क के जितना ही बूंदों को फिलटर करेगा। दोनों में संक्रमण फैलने का खतरा 50 से 75 प्रतिशत तक कम होता है।

उदाहरण के लिए, जर्नल ऑफ $फ्लूइड्स में प्रकाशित निष्कर्ष से पता चला है, यदि एक संक्रमित व्यक्ति और एक स्वस्थ व्यक्ति दोनों मास्क पहने हुए हैं, तो वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे संक्रमण फैलने का खतरा 94 प्रतिशत तक कम होता है। बेहतर ढंग से समझने के लिए, टीम ने देखा कि कैसे तरल बूंदों को कपड़े के मुखौटे में कैद और फिल्टर किया जाता है, जिसमें निरोधात्मक प्रभाव सहित निस्पंदन प्रक्रियाओं की समीक्षा और मॉडलिंग की जाती है।

टीम ने समझाया कि जड़त्वीय प्रभाव एक छलनी या कोलंडर के रूप में फिल्टर नहीं होता है, यह आपकी सांस में हवा को मोड़ने और मास्क के अंदर मुड़ने के लिए मजबूर करके काम करता है ताकि बूंदें हवा के रास्ते का पालन न कर सकें और बूंदें मास्क के अंदर खत्म हो जाए।