16 जनवरी को देशभर में कोरोना टीकाकरण शुरू होने से पहले टीके की डोज राज्यों को मिलना शुरू हो चुका है। देश में फिलहाल दो तरह के टीके को आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति दी गई है। माना जा रहा है कि अगले एक महीने में दो और टीके सामने आ रहे हैं, जिनमें से एक स्वदेशी जाइडस कैडिला कंपनी का है। जबकि दूसरा रूस का स्पूतनिक-5 टीका है। 

फिलहाल यह दोनों टीके अंतिम चरण के परीक्षण स्थिति में चल रहे हैं। सरकार की योजना के ही अनुसार, मार्च माह के पहले सप्ताह तक देश में चार और अप्रैल माह के अंत तक पांच तरह के टीके उपलब्ध होंगे। तब तक देश में तीन करोड़ स्वास्थ्य कर्मचारी और सुरक्षा जवानों को टीका दिया जाएगा। बाजार में पांच तरह के टीके उपलब्ध होने के बाद इनकी कीमतों में भी कमी आएगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्यों के साथ मिलकर फिर कीमतों पर विचार करेंगे।

उधर, मुंबई में कोविड-19 के लिए ‘कोविशिल्ड’ वैक्सीन की पहली खेप बुधवार सुबह पहुंच चुकी है। यह जानकारी बृहन्मुंबई नगर निगम के एक शीर्ष अधिकारी ने दी। नगर आयुक्त आई.एस. चहल ने बताया, ‘‘यह वैक्सीन पुणे से मुंबई में बीएमसी के एक विशेष वाहन द्वारा स्वास्थ्य अधिकारियों और पुलिस सुरक्षा के साथ लाई गई। स्टॉक पहले ही परेल में बीएमसी एफ/साउथ डिविजनल ऑफिस पहुंच चुका है।’’ उन्होंने कहा कि, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ने मुंबई के 72 केंद्रों पर होने वाले वैक्सीनेशन अभियान के लिए बीएमसी को करीब 1,39,500 खुराकें दी हैं।

चहल के अनुसार, वैक्सीन को अगले कुछ दिनों में मुंबई के विभिन्न वैक्सीनेशन केंद्रों में एफ/साउथ डिविजनल ऑफिस से भेज दिया जाएगा। चहल ने कहा, ‘‘इसके बाद हमारे लिए 16 जनवरी को वैक्सीनेशन अभियान के राष्ट्रीय शुभारंभ के साथ मुंबई में टीकाकरण शुरू करना संभव होगा।’’ बीएमसी एफ/साउथ डिवीजन कार्यालय में कर्मचारियों ने दिन की शुरुआत में जोश के साथ ताली, माला और ‘पूजा’ (प्रार्थना) के साथ जीवन रक्षक वैक्सीन का स्वागत किया। उसके बाद वैक्सीन को केंद्र और राज्य सरकार द्वारा निर्धारित प्रक्रियाओं के अनुसार, भूतल पर तापमान नियंत्रित वैक्सीन स्ट्रांग रूम में भंडारण के लिए भेज दिया गया। गौरतलब है कि देश में कोविड-19 से सबसे अधिक प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है, जहां सबसे अधिक मौतें दर्ज की गई हैं। मुंबई में 72 टीकाकरण केंद्र निर्धारित किए गए हैं, जहां लगभग 100 व्यक्ति प्रत्येक केंद्र या पूरे शहर में लगभग 7,200 लोगों को प्रतिदिन वैक्सीन दी जाएगी। यह घोषणा स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने की।