कोरोना वायरस के प्रकोप से लड़ रहे भारत के सामने अब एक और चुनौति खड़ी हो गई है। ब्रिटेन में पाए गए कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन (वायरस का नया रूप) का पहला संदिग्ध देश में मिला है। हालांकि ब्रिटेन में वायरस का नया स्ट्रेन मिलने के बाद भारत सरकार ने 31 दिसंबर तक वहां से आने वाली उड़ानों पर रोक लगा दी है, लेकिन इससे पहले मंगलवार रात ब्रिटेन से आई एक उड़ान में एक यात्री नए कोरोना स्ट्रेन से संक्रमित मिला है। संदिग्ध मरीज को दिल्ली के लोकनायक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. सुरेश कुमार का कहना है कि अस्पताल लाए गए इस मरीज को नए स्ट्रेन का संदिग्ध माना गया है। हम जांच कर रहे हैं। फिलहाल कई तरह के परीक्षण किए जा रहे हैं। परीक्षण नतीजों के बाद ही यह स्पष्ट हो पाएगा कि यह कोरोना का पुराना स्ट्रेन है या नया स्ट्रेन। उन्होंने कहा कि फिलहाल मरीज स्वस्थ नजर आ रहा है और वह एसिम्पटोमैटिक है।

कई गुणा तेजी से फैलता है वायरस

गौरतलब है कि ब्रिटेन में कई मरीजों में यह नया स्ट्रेन मिला है। जिसके बाद दुनियाभर के कई देशों ने अलर्ट जारी करना शुरू कर दिया है। इस नए वायरस का क्लीनिकल स्पेक्ट्रम एक ही है। इसे काफी खतरनाक माना जा रहा है। यह वायरस 70 फीसदी तेजी से फैलता है। इसकी चपेट में आने वाले ज्यादातर लोग युवा हैं।

ब्रिटेन में अब मिला एक और घातक वायरस

वहीं ब्रिटेन की परेशानी भी कम नहीं हो रही है। कोरोना का नया स्ट्रेन मिलने के बाद अब यहां कोरोना वायरस का एक और रूप मिला है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य सचिव मैट हैनकॉक का कहना है कि दो संक्रमितों में यह मिला है। दोनों हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे हैं। विशेषज्ञों ने वायरस के इस दक्षिण अफ्रीकी रूप के सामने आने के बाद देश में महामारी की दूसरी लहर और बड़े पैमाने पर फैलने की आशंका जताई है। चिंता इसलिए भी बड़ी है क्योंकि इन दोनों मरीजों में मिला वायरस का नया रूप ब्रिटेन में हाल ही में मिले वायरस के एक अन्य रूप से भी ज्यादा संक्रामक है। विशेषज्ञों का मानना है कि यह पहले वाले रूप से ही म्यूटेट हुआ है। सरकार ने दक्षिण अफ्रीका से आवागमन पर तत्काल रोक लगा दी है और पिछले 15 दिन में वहां से आने वाले सभी लोगों को जांच के बाद क्वारंटीन में भेजने के आदेश जारी कर दिए हैं।