इंग्लैंड में कोरोना वायरस का नया स्वरूप सामने आया है, जिसे लेकर दिल्ली सरकार सतर्क हो गई है। दिल्ली में बीते दिनों इंग्लैंड से दिल्ली आने वाले सभी लोगों की जानकारी जुटाई जा रही है। अभी तक जिन लोगों की जानकारी मिली है, उन सभी की जांच दिल्ली सरकार द्वारा शुरू कर दी गई है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा, हम इस मामले पर अपनी नजर जमाए हुए हैं। पिछले 2 हफ्तों में इंग्लैंड से दिल्ली आने वाले सभी यात्रियों का पता लगाया जा रहा है। हम उन सभी यात्रियों कि पहचान व जांच शुरू कर चुके हैं। किसी भी संक्रमण से खुद को बचाने का एकमात्र तरीका मास्क पहनना और नियमित रूप से सावधानी बरतना है।

स्वास्थ्य मंत्री ने इंग्लैंड में कोरोना वायरस के नए स्वरूप पर जारी दिशा-निर्देश पर कहा, वैज्ञानिकों के अनुसार, वायरस का यह नया स्वरूप काफी संक्रामक है और तेजी से फैल रहा है। कोरोनो वायरस समय के साथ अपना स्वरूप बदल सकता है, लेकिन मेरी सभी से यही अपील है कि सावधान रहें और घर से बाहर निकलते समय हमेशा मास्क पहनें। अगर हम नियमों का पालन करेंगे, तो हमें वायरस के किसी भी स्वरूप से घबराने की आवश्यकता नहीं है। स्वास्थ्य मंत्री ने दिल्ली वासियों के सहयोग की सराहना की और कहा कि दिल्ली वासियों ने पूरी सावधानी से सभी कोरोना नियमों का पालन किया है और यही कारण है कि आज दिल्ली में कोरोना संक्रमण नियंत्रण में हैं।

बीते 24 घंटे में सामने आए नतीजों के मुताबिक दिल्ली में पॉजिटिविटी दर 8 महीनों में सबसे कम रही है। दिल्ली में लगातार पिछले 3 दिनों से 1000 से कम नए केस आए हैं। सत्येंद्र जैन ने बताया कि दिल्ली सरकार प्रतिदिन 80,000 टेस्ट कर रही है। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि दिल्ली में पूरे देश में सबसे कम पॉजिटिविटी दर है। दिल्ली सरकार ने वैक्सीन को लेकर पूरी तैयारी कर ली है। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीन को रखने एवं उसे बांटने के लिए सभी तरह का प्रबंध कर लिया गया है और अब बस वैक्सीन आने का इंतजार है। हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर को पहले चरण में वैक्सीन उपलब्ध कराई जाएगी। इसके बाद 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी। 

मंत्री ने बताया कि वैक्सीन आने का मतलब यह नहीं है कि इस वायरस का खतरा पूरी तरह से खत्म हो गया है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि मंगलवार को दिल्ली में 939 कोरोना के नए केस सामने आए और वहीं पॉजिटिविटी दर 1.14 प्रतिशत थी। मंगलवार को दिल्ली में कुल 82,000 टेस्ट किए गए थे। उन्होंने बताया कि दिल्ली में पॉजिटिविटी दर लगातार घट रही है और बीते 8 महीनों में यह दर सबसे कम है। दिल्ली में कोरोना मरीज के लिए उपलब्ध बेड के सवाल का जवाब देते हुए मंत्री ने कहा कि फिलहाल सिर्फ 2800 बेड पर ही मरीज हैं और लगभग 50 प्रतिशत आईसीयू बेड भी अभी उपलब्ध हैं। दिल्ली में पिछले तीन दिनों से लगातार 1000 से कम नए केस सामने आ रहे हैं और पॉजिटिविटी दर भी नियंत्रण में है। दिल्ली में पूरे देश से सबसे कम पॉजिटिविटी दर है।