मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) के शोधकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि कोविड-19 वैक्सीन या दवाओं के अभाव में भारत में 2021 में सर्दी के अंत तक प्रति दिन कोरोनावायरस के 2.87 लाख मामले दर्ज हो सकते हैं।

एमआईटी के स्लोन स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के शोधकर्ता हाजिर रहमानदाद, टीवाई लिम और जॉन स्टरमैन द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार, दुनिया में 2021 में बसंत के मौसम तक 249 मिलियन (24.9 करोड़) मामले और 1.8 मिलियन (18 लाख) मौतें हो सकती हैं। इस अध्ययन के लेखकों ने लिखा है, हमने वैश्विक स्तर पर कोविड-19 महामारी को लेकर सभी देशों के लिए अनुमान लगाने का मॉडल बनाया है। हमारा मॉडल रोग के प्रसार की गतिशीलता को पकड़ता है।

इस अध्ययन के अनुसार, 2021 में सर्दियों के अंत तक जिन देशों में दैनिक संक्रमण दर का अनुमान लगाया गया है, उनमें शीर्ष 10 देशों में भारत, अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका, ईरान, इंडोनेशिया, नाइजीरिया, तुर्की, फ्रांस और जर्मनी शामिल हैं। अध्ययन के मुताबिक, सर्दियों के अंत तक भारत सबसे अधिक प्रभावित देश होगा। इसके बाद अमेरिका (95 हजार मामले प्रति दिन), दक्षिण अफ्रीका (21 हजार मामले प्रति दिन), ईरान (17 हजार मामले प्रति दिन), और इंडोनेशिया (13 हजार मामले प्रति दिन) होंगे।एमआईटी के शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है कि संक्रमण की दर पूर्व की तुलना में 12 गुना और मृत्यु की दर पहले की तुलना में 50 प्रतिशत अधिक है।