कोरोना संक्रमण का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। देश में कुल संक्रमितों की संख्या 8,228 हो गई है और मृतकों की संख्या बढ़कर 266 हो गई है। शनिवार शाम तक देश में 629 नए केस मिले। महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 1761 मरीज हैं, तो वहीं दिल्ली में 1069 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैं। शनिवार को दिल्ली में 166, गुजरात में 90 नए केस मिले। वहीं कर्नाटक में 8, झारखंड में 3, मध्यप्रदेश में 2, हरियाणा में 3 और बिहार में 1 मामला सामने आया। ये आंकड़े राज्य सरकारों के अनुसार हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, शनिवार शाम तक देश में 652 लोग ठीक हुए हैं।

केंद्रीय मंत्रालयों की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में शनिवार को कहा गया कि अभी देश में संक्रमण के 7,447 केस हैं। अगर लॉकडाउन नहीं होता, तो यह संख्या 45 हजार के करीब होती। अगर सरकार की तरफ से गंभीर कोशिश न की गई होती, तो अब तक 8.2 लाख केस सामने आते, इसलिए लॉकडाउन काफी जरूरी है। गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि वे डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों को सुरक्षा मुहैया कराएं। वह चाहे अस्पताल में हों या क्वारेंटाइन सेंटर पर, हर जगह जरूरी उपाय किए जाएं।

उधर, कोरोना के इलाज में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टेबलेट को कारगर माना जा रहा है। अमेरिका समेत कई देशों ने भी भारत से यह टेबलेट मांगी है। जायडस कैडिला कंपनी, अहमदाबाद के सीईओ पंकज पटेल का कहना है कि फार्मास्युटिकल कंपनियों ने इस टेबलेट का उत्पादन बढ़ा दिया है। इस महीने 20 करोड़ टेबलेट तैयार हो जाएंगी। कैडिला कंपनी ही 30 टन एक्टिव फार्मास्युटिकल इंग्रेडिएंट (एपीआई) बना रही है। इससे 15 करोड़ टेबलेट बनाई जा सकती हैं।

दिल्ली में संक्रमण का हॉटस्पॉट रहा दिलशाद गार्डन संक्रमण मुक्त हो गया है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का कहना है कि इस इलाके में बीते 10 दिनों में कोरोना संक्रमण का नया मामला नहीं आया। संक्रमण के 8 मामले आने के बाद मार्च के आखिरी में इस इलाके को सील कर दिया गया था। 123 मेडिकल टीमों का गठन किया गया। इन टीमों ने 4 हजार 32 घरों में 15 हजार से अधिक लोगों की स्क्रीनिंग की। जिनमें संक्रमण के लक्षण दिखे, उन्हें क्वारेंटाइन किया गया।