बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कोरोना टीकाकरण को फिर पूरी तरह से सुरक्षित बताया और कहा कि राज्य में लगभग 29 लाख लोगों ने टीका लिया है। पांडेय ने आज यहां के इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (आईजीआईएमएस) में अपनी पत्नी के साथ 45 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए शुरू हुए टीकाकरण के तहत पहला टीका लेकर इसके तीसरे चरण की शुरुआत की। 

उन्होंने इसके बाद लोगों से अपील की कि जिनकी उम्र 45 वर्ष से अधिक हो गई है वह टीकाकरण केंद्र जाकर कोरोना का टीका अवश्य ले। मंत्री ने कहा कि इसमें संशय की कोई बात नहीं है और यह वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि राज्य में 29 लाख लोग कोरोना का टीका ले चुके हैं। तीसरे चरण में आज 45 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए टीकाकरण का शुभारंभ किया गया है। 

पांडेय ने कहा कि जल्द ही राज्य में टीकाकरण केंद्र की संख्या में वृद्धि की जाएगी। इसमें लोगों को टीका लेने में किसी तरह की असुविधा नहीं होगी। उन्होंने कहा कि अन्य प्रदेशों की तुलना में बिहार में कोरोना महामारी नियंत्रण में है। मंत्री ने कहा कि राज्य में कोरोना के नियंत्रण में होने के बावजूद सरकार सतर्क है और लोगों से भी सावधानी बरतने के अलावा जागरूक रहने की सलाह दी जा रही है। बाहर से आने वाले लोगों की हवाईअड्डा, रेलवे स्टेशन और बस पड़ाव पर रेंडम जांच कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके अलावा गांव में भी जानकारी मिलने पर टीम को भेजा जा रहा है। 

पांडेय ने कहा कि मरीजों की ट्रैकिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट का काम जारी है। राज्य में अभी 1600 के लगभग कोरोना मरीज है। जांच की और सुविधाएं बढ़ाई गई है। उन्होंने कहा कि विभाग लोगों के स्वास्थ्य से लेकर उपचार तक सजग है। देश के विभिन्न राज्यों में कोरोना की जो स्थिति है उसके अनुसार राज्य में भी कोरोना संक्रमण बढऩे की आशंका है इसलिए दवाई भी और कड़ाई भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में लोगों को अनावश्यक यात्रा से बचना होगा।