बिहार में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। बिहार स्वास्थ्य विभाग ने अनुसार राज्य में  2082 नए मामले सामने आए हैं। 29 जुलाई को राज्य में 1445 नए मामले थे। वहीं 28 जुलाई को 637 मामले सामने आए हैं। इसी के साथ बिहार में संक्रमितों की संख्या 48001 हो गई है।

राज्य में 1 जुलाई से 29 जुलाई के बीच कोरोना के मामलों में साढ़े चार गुना का बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। 1 जुलाई को कोरोना के कुल मामले 10, 205 थे जो बढ़कर 48001 हो गए। राज्य में अब तक 273 लोगों की इस महामारी की वजह से जान भी जा चुकी है। इनमें से 195 मौतें पिछले 27 दिनों में हुई हैं। बुधवार को राज्यभर में कोरोना से कुल 11 लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही कोरोना से मौत का कुल आंकड़ा बढ़कर 273 हो गया है। बुधवार को पटना में तीन, नालंदा, रोहतास और भागलपुर में दो-दो, अररिया और कटिहार में एक-एक मरीज की मौत हो गई। नालंदा के जिला योजना पदाधिकारी संजय गंगवाल की भी कोरोना से मौत हो गई है। उन्होंने पटना एम्स में दम तोड़ा।

बता दें कि हाल ही में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य में वर्तमान 8,000 बिस्तरों की संख्या को 5,000 और बढ़ाकर 13 हजार किया जाएगा। सरकार ने पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में 100 बेड का एक कोविड अस्पताल और पाटलिपुत्र स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में 100 बेड का दूसरा कोविड अस्पताल शुरू किया है। बावजूद इसके कोविड के लिए समर्पित अस्पतालों का बोझ कम नहीं हो सका है। अधिकांश जिलों में ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ पर्याप्त बेड हैं, लेकिन पटना के अस्पतालों को ऐसे बेड की अधिक आवश्यकता है। कई लोगों ने दहशत में आकर घरों पर ऑक्सीजन सिलेंडर जमा कर रखे हैं।