कोरोना की दूसरी लहर से दुनियाभर में मची तबाही के घाव अभी तक भर नहीं पाए हैं कि अब तीसरी लहर का खतरा मंडराने लगा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक कोरोना के बेहद संक्रामक डेल्टा स्वरूप का प्रकोप 135 देशों में सामने आ चुका है। 

संगठन की ओर से वैश्विक महामारी विज्ञान अपडेट में बताया गया कि 132 देशों में बीटा स्वरूप और 81 देशों में गामा स्वरूप सामने आया है। इसमें बताया कि अल्फा स्वरूप 182 देशों, क्षेत्रों या इलाकों में मिला है। जबकि पहली बार भारत में मिले डेल्टा स्वरूप के मामले अब 135 देशों में सामने आ चुके हैं। चिंताजनक बात यह है कि 26 जुलाई से एक अगस्त के बीच इसके 40 लाख से ज्यादा मामले सामने आए हैं। सबसे ज्यादा वृद्धि पूर्वी भूमध्य क्षेत्र एवं पश्चिमी प्रशांत क्षेत्रों में दिख रही है। यहां पिछले हफ्ते की तुलना में क्रमश: 37 प्रतिशत और 33 प्रतिशत बढ़ोत्तरी देखी गई है। जबकि दक्षिण-पूर्व एशियाई क्षेत्र में मामले नौ प्रतिशत तक बढ़े हैं।

हालांकि वैक्सीनेशन के कारण इस दौरान मौतों का आंकड़ा कुछ कम हुआ। इस हफ्ते दुनियाभर में कोविड-19 से 64 हजार मौत हुईं जो पिछले हफ्ते की तुलना में आठ प्रतिशत कम है। हालांकि, पश्चिम प्रशांत एवं पूर्वी भूमध्य क्षेत्रों में पिछले हफ्ते की तुलना में मौत के नए मामलों में क्रमश: 48 प्रतिशत और 31 प्रतिशत की कमी आई है।

अमरीका में बढ़े सबसे ज्यादा मामले, भारत दूसरे नंबर पर

देश - नए मामले - प्रतिशत

अमरीका- 5,43,420 - 9 प्रतिशत बढ़े

भारत - 2,83,923 - 7 प्रतिशत बढ़े

इंडोनेशिया - 2,73,891 - 5 प्रतिशत घटे

ब्राजील- 2,47,830 - 24 प्रतिशत घटे

ईरान - 2,06,722 - 27 प्रतिशत बढ़े

(आंकड़े 26 जुलाई से एक अगस्त के बीच )