दिल्ली सरकार को कोरोना की तीसरी लहर का डर है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इंग्लैंड से जो संकेत मिल रहे हैं, उनके अनुसार, वहां पर तीसरी लहर का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। वहां पर केस काफी ज्यादा बढ़ते जा रहे हैं, जबकि इंग्लैंड में 45 फीसद लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। फिर भी केस बढ़ते जा रहे हैं। उसको मद्देनजर रखते हुए हमें हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठना है।

सीएम ने कहा कि तीसरी लहर आने की संभावना काफी वास्तविक हैं। जब तीसरी लहर आएगी, तो हम यह नहीं कह सकते कि हमने कुछ नहीं किया। इस वक्त सरकार युद्ध स्तर पर काम कर रही है। ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक का शुरू किया गया है। प्रत्येक स्टोरेज टैंक 57-57 मीट्रिक टन क्षमता के हैं। इसके अलावा, लगभग 13.5 मीट्रिक टन क्षमता के दो ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट का उद्घाटन किया गया है। शनिवार को इस विषय में जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमें पूरी तैयारी करनी पड़ेगी। हम लोग हाथ पर हाथ रखकर नहीं बैठ हैं। दिल्ली में जो चौथी लहर आई थी, इस दौरान कुछ ऐसी कमियां हम लोगों की महसूस होती हैं। जैसे हमें सबसे ज्यादा ऑक्सीजन की किल्लत महसूस हुई। दिल्ली इंडस्ट्रियल राज्य नहीं है। दिल्ली ऑक्सीजन का उत्पादन नहीं करता है। दिल्ली के अस्पतालों में जो प्रतिदिन ऑक्सीजन चाहिए, वह बहुत कम मात्रा में चाहिए होती है और वह दिल्ली के बाहर से आती है। लेकिन कोरोना की इस लहर के दौरान दिल्ली में ऑक्सीजन की जरूरत बहुत ज्यादा बढ़ गई।

दिल्ली में जब कोरोना नहीं था, तब दिल्ली में अस्पतालों को रोजना करीब 150 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन की जरूरत होती है। इंडस्ट्रीयल ऑक्सीजन की थोड़ी बहुत जरूरत होती है। वहीं कोरोना की इस लहर में दिल्ली को प्रतिदिन 700 मीट्रिक टन तक ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी। मुख्यमंत्री के मुताबिक जो भी मरीज आ रहा था, उसको ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही थी। दिल्ली को एकदम से 700 मीट्रिक ऑक्सीजन की जरूरत पड़ गई। इतनी ऑक्सीजन कहां से आए। न तो दिल्ली के पास खुद का उत्पादन था और न तो हमारे पास टैंकर थे। केंद्र सरकार ने अगर हमें हरियाणा और यूपी से ऑक्सीजन लाने के लिए कहा भी, तो उसे लाने के लिए हमारे पास टैंकर नहीं थे। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहाकि मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि कोरोना की यह तीसरी लहर न आए। हम लोगों का वैक्सीनेशन कार्यक्रम अच्छा चल रहा है। जब वैक्सीन की कमी होती है, तब दिक्कत आती है। अन्यथा पिछले हफ्ते दिल्ली सरकार द्वारा शुरू किया गया ‘जहां वोट, वहां वैक्सीनेशन’ कार्यक्रम बहुत अच्छा चल रहा है। मैं उम्मीद करता हूं कि तीसरी लहर न आए और अगर आए भी, तो हम लोग इसी तरह मिलकर उसका भी सामना करेंगे।