बिहार में एक बार फिर कोरोना (corona cases in Bihar) ने रफ्तार पकड़ ली है। बीते सात दिनों में 13 गुना से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। नए मरीजों के मिलने का सिलसिला बढ़ने के बाद सक्रिय मामलों की संख्या में भी इजाफा होने लगा है। इस बीच पिछले 24 घंटे में नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (Nalanda Medical College Hospital) (एनएमसीएच) में भी 84 डॉक्टर संक्रमण के शिकार हो गए है।

राज्य स्वास्थ्य विभाग (state health department) के आंकड़ों पर गौर करें तो राज्य में रविवार को 352 नए कोरोना संक्रमितों की पुष्टि हुई है, जबकि 27 दिसंबर को केवल 26 नए मामले सामने आए थे। आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल के अंतिम दिन यानी 31 दिसंबर को राज्य भर में 158 मामले सामने आए थे, जबकि इस साल के पहले दिन 281 नए मामलों की पुष्टि हुई थी। इस चरण के पहले दौर में डाक्टर भी चपेट में आ रहे है। एनएमसीएच (NMCH) में रविवार को 194 लोगों की आरटीपीसीआर जांच में 84 चिकित्सक कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं। एक साथ इतनी बड़ी संख्या में डॉक्टरों के कोरोना संक्रमित होने से अस्पताल में हड़कंप मच गया है।

इस संबंध में अस्पताल के अधीक्षक डॉ. विनोद कुमार सिंह ने बताया कि रविवार को चिकित्सकों की आरटीपीसीआर जांच (RTPCR test) करायी गयी, जिसमें 84 डॉक्टर संक्रमित पाए गए। शनिवार को 12 चिकित्सक संक्रमित पाये गये थे। सभी संक्रमित चिकित्सक होम आइसोलेशन में हैं। इस बीच राज्य में रविवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में पिछले 24 घंटे के दौरान कुल 352 नये मामले सामने आये, जिससे सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 1074 हो गयी है। पटना (corona cases in Patna) जिले में कोरोना के सर्वाधिक 142 मामले सामने आए जबकि गया जिले में 110 लोग संक्रमण की चपेट में हैं। विभाग के मुताबिक, जहानाबाद और मुंगेर के 13-13, लखीसराय में 7, जमुई और खगड़िया में 6-6, सहरसा और मुजफ्फरपुर में 5-5, समस्तीपुर, औरंगाबाद और बांका में 4-4, सारण, वैशाली और भागलपुर में 3-3, सीवान, पश्चिमी चंपारण, नालंदा, भोजपुर और दरभंगा में 2-2 तथा बेगूसराय, गोपलगंज, कैमूर किशनगंज, सीतामढ़ी और सुपौल में 1-1 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए।