बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के छह महीने में छह करोड़ लोगों का कोरोना टीकाकरण करने की घोषणा के बाद स्वास्थ्य विभाग इसकी तैयारी में जुट गया है। इसके लिए कार्ययोजना बनाई जा रही है।राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने बताया कि मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद अगले छह महीने में 18 साल से अधिक आयु वाले छह करोड़ लोगों का टीकाकरण के लिए विभाग द्वारा कार्ययोजना तैयार की जा रही है।

उन्होंने कहा कि इसके तहत इस अभियान में कितने लोग लगाए जाने हैं और टीकाकरण स्थलों के निर्धारण को लेकर कार्ययोजना बनाई जा रही है। इस बीच, विभाग द्वारा जिलों से भी इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए सुझाव मांगे गए हैं, जिससे इस लक्ष्य को समय सीमा के अंदर पूरा किया जा सके। पांडेय ने बताया कि केंद्र सरकार ने आश्वस्त किया है कि किसी भी स्थिति में टीका की कमी नहीं होने दी जाएगी। स्वास्थ्य विभाग के लिए इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सबसे बड़ी समस्या टीका लगाने वाले प्रशिक्षित लोगों को तैयार करने की है।

विभाग के एक अधिकारी कहते हैं कि टीकाकरण अभियान के लिए फिलहाल प्रशिक्षित 27 हजार से अधिक लोगों की पहचान की गई है। इनमें से करीब 15 हजार को विभिन्न टीकाकरण स्थलों पर प्रतिनियुक्त किया गया है। ऐसे में माना जा रहा है कि इन प्रशिक्षित लोगों की संख्या बढ़ाई जाएगी।उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में कहा था कि कोरोना संक्रमण की दर में गिरावट आयी है लेकिन कोरोना संक्रमण की जांच में और तेजी लाने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने कहा था कि अब तक 1 करोड़ 16 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण कराया जा चुका है और अगले छह महीने में 6 करोड़ लोगों को टीकाकरण कराना है।