कोरोना की दूसरी लहर ने दुनिया को खौफ में डाल दिया है। दूसरी कोरोना की लहर और साथ ही में सर्दी के कारण से ज्यादा संक्रमण फैलने का डर है। इसी बीच देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अच्छी खबर सामने आई है। देश के स्वास्थ्य मंत्रालय के जारी बयान में बताया कि अगले दो से तीन महीनों में देश को असरदार वैक्सीन मिल सकती है। केंद्र सरकार ने वैक्सीनेशन की प्रक्रिया पर फोकस करना शुरू कर दिया है। सरकार ने सभी राज्यों को इसके लिए जानकारी दी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव डॉ. मनोहर अगनानी ने राज्यों से कहा कि वैक्सीनेशन के कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं। कोरोना से निपटने के लिए सभी राज्य सरकारें अपने यहां तैयारियां कर रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए कई अहम जानकारियां भी दी हैं। इन जानकारियों में बताया जा रहा है कि एडवर्स इवेंट्स फॉलोविंग इम्यूनाइजेशन (AEFI) सर्विलांस सिस्टम को और मजबूत बनाने पर काम किया जाए ताकि वैक्सीनेशन समय पर हो सकें।

स्वस्थ्या मंत्रालय ने बताया है कि कोरोना से लड़ने के लिए और इसकी वैक्सीन के लिए राज्य सरकारें मेडिकल स्पेशलिस्ट और पीडियाट्रिशियन को जिला स्तर के AEFI कमेटी में शामिल करें। AEFI कमेटी ने कहा कि वैक्सीन सबसे पहले बुजुर्गों को दी जानी चाहिए। जिनमें स्ट्रोक, हर्ट अटैक, सांस जैसी अन्य बीमारियां पहले से ही हैं। सभी राज्य को स्वास्थ्यकर्मियों को ट्रेनिंग देने के लिए AEFI कमेटी को तैयार करना होगा। देशभर में जहां वैक्सीन के ड्रग रिएक्शन मॉनिटरिंग सिस्टम है।