नई दिल्ली. भारत में कोरोना वैक्सीन के लिए अब लंबे समय तक इंतजार नहीं करना होगा।  बुधवार को डीजीजीआई की बैठक के अगले दिन गुरुवार को डीसीजीआई के डॉ वीजी सोमानी ने वैक्सीन से जुड़ा अहम बयान दिया है।  सोमानी ने कहा कि नए साल में हम खाली हाथ नहीं होंगे। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार सरकार ने पहले ही लगभग 83 करोड़ सीरिंज की खरीद के आदेश दे दिए हैं।  इसके अतिरिक्त लगभग 35 करोड़ सिरिंजों के लिए निविदा भी आमंत्रित की गई हैं।  इन्हें कोविड टीकाकरण के लिए  उपयोग किया जाएगा।  वहीं केंद्र सरकार ने कहा है कि देश के सभी राज्यों में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन 2 जनवरी को होगा। 

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी संकेत दिए कि जल्द ही टीका आ सकता है।  गुरुवार को पीएम ने कहा कि कोविड-19 का टीका आने के बाद भी लोग लापरवाही ना बरतें।  राजकोट में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की आधारशिला रखे जाने के कार्यक्रम में मोदी ने कहा कि देश में कोविड-19 के नए मामलों की संख्या में कमी आई है। 

वहीं एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि भारत में कुछ ही दिनों में कोविड की वैक्सीन होगी।  उन्होंने कहा कि यह बहुत अच्छी खबर है कि एस्ट्राजेनेका को यूके के नियामक अधिकारियों द्वारा टीके के लिए मंजूरी मिल गई है।  उनके पास मजबूत डेटा है।  इसे वैक्सीन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा विकसित किया जा रहा है।  यह न केवल भारत के लिए एक बड़ा कदम है।  दुनिया के कई हिस्सों को इसका लाभ मिलेगा। 

दूसरी ओर कोरोना वैक्सीन के रोल आउट के लिए कमर कसने के उद्देश्य से केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से कहा है कि वे वैक्सीन रोल आउट के लिए प्रभावी तैयारी सुनिश्चित करें। 

 केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव  राजेश भूषण ने सचिव (स्वास्थ्य), एनएचएम एमडी और अन्य राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के अन्य स्वास्थ्य प्रशासकों को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से कोरोना टीकाकरण के लिए सत्र स्थलों पर तैयारियों की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की।