देश में कोरोना वायरस बहुत ही तेजी से फैल रहा है। कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे देश में तबाही मचा दी है। देश में एक दिन के भीतर 2.60 लाख से अधिक कोरोना के केस सामने आए हैं। बढ़ते कोरोना केस केंद्र सरकार टेंशन बढ़ा दी है। कोरोना की बढ़ती इस भयावह रफ्तार के देखते हुए देश में फिर से लॉकडाउन लागू करने की संभावना है। फिलहाल, देश में कई तरह की पाबंदियां लागू की गई है।
 


कोरोना बेलगाम हो चुका है, ऐसे में सरकार लॉकडाउन लगाने पर फिर से विचार कर ही है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने स्पष्ट कर दिया है कि “देश में जल्दबाजी में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा और फिलहाल ऐसी स्थिति भी नहीं दिख रही है। अमित शाह ने कहा कि हम कई स्टेकहोल्डर्स के साथ चर्चा कर रहे हैं। शुरू में लॉकडाउन का उद्देश्य अलग था। हम बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर और उपचार की रेखा तैयार करना चाहते थे। तब हमारे पास कोई दवा या टीका नहीं था। अब स्थिति अलग है।

केंद्र फिलहाल मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा कर रहे हैं। टीकाकरण के मोर्चे पर वैज्ञानिकों के साथ बात हुई है और चिकित्सा प्रोटोकॉल में सुधार के लिए एक बैठक हुई है। इससे लड़ने की तैयारी पूरी तरह से की जा रही है। इस समय संक्रमण की गति अधिक है। उछाल मुख्य रूप से वायरस के नए म्यूटेंट के कारण है। कई देशों में उछाल देखा जा रहा है। वैज्ञानिक इसका अध्ययन कर रहे हैं और इस पर एक निष्कर्ष समय से पहले होगा।