कोरोना के बढ़ते ग्राफ को देखते हुए प्रशासन उत्तराखंड पहुंचने वाले पर्यटकों और यात्रियों को लेकर सख्त हो गया है। प्रशासन की ओर से आज रेल मार्ग से पहुंचने वाले यात्रियों की कोरोना रिपोर्ट की जांच की गयी और जिन यात्रियों के पास कोरोना रिपोर्ट नहीं थी उनकी मौके पर ही जांच करायी गयी। राज्य में गुरुवार से कोरोना की नयी गाइड लाइन लागू हो गयी है। 

गाइड लाइन के अनुसार बाहरी राज्यों से आने वाले पर्यटकों और यात्रियों को अपने साथ 72 घंटे पहले की कोरोना जांच रिपोर्ट लाना अनिवार्य है। इसी को देखते हुए उधमङ्क्षसह नगर और नैनीताल जिला प्रशासन की ओर से सड़क, रेल तथा हवाई मार्ग से आने वाले यात्रियों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। आज शताब्दी एक्सप्रेस से आने वाले यात्रियों व पर्यटकों की काठगोदाम और हल्द्वानी रेलवे स्टेशनों पर जांच की गयी। नैनीताल की सहायक मुख्य चिकित्साधिकारी रश्मि पंत ने बताया कि अधिकांश यात्री कोरोना की जांच रिपोर्ट साथ लेकर आये थे। 

इनमें से 41 पर्यटकों ऐसे भी थे जो कोरोना जांच (आरटीपीसीआर) नहीं लेकर आये थे। ऐसे यात्रियों की मौके पर जांच की गयी। इस दौरान रिपोर्ट आने तक सभी को आइसोलेशन की प्रक्रिया से गुजरना होगा। उन्होंने बताया कि शुक्रवार से काठगोदाम, हल्द्वानी और लालकुआं रेलवे स्टेशनों पर जांच को बढ़ाया जाएगा और बिना रिपोर्ट आने वाले यात्रियों की कोरोना जांच मौके पर करायी जायेगी।