देश अभी कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है। देश के लगभग 10 राज्य इस महामारी की गंभीर चपेट में हैं। दिल्ली और महाराष्ट्र सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। पिछली लहर भी इन्हीं राज्यों को सबसे ज्यादा परेशान कर गई थी। हालांकि इस बार मामला कुछ गंभीर है क्योंकि कोरोना का ये म्यूटेंट वेरिएंट है जो बड़ी तेजी से लोगों को बीमार बना रहा है। संक्रमण के लक्षण में भी भारी अंतर देखे जा रहे हैं। अगर लोग इस बीमारी का आकलन पिछली लहर के हिसाब से कर रहे हैं, तो यह उनकी भूल है। पिछले बार की तुलना में कोरोना ने अपना स्वरूप बदला है। लिहाजा लक्षण भी बदले-बदले दिख रहे हैं। पिछली बार कोरोना के प्रमुख लक्षणों में बुखार और सूखी खांसी थी, लेकिन इस बार संक्रमण का दायरा विस्तार पा चुका है। इस बारे में मेडिकल एक्सपर्ट डिटेल में बता रहे हैं।

पूरे देश में मेडिकल एक्सपर्ट ने कोरोना के नए-नए लक्षणों पर गौर किया है। इन लक्षणों में पेट में दर्द, उलटी, जी मिचलाना, डायरिया, लाल आंखें, सुनने में दिक्कत और अन्य शारीरिक दिक्कतें शामिल हैं। अन्य लक्षणों में myalgia, जोड़ों का दर्द, भूख में कमी, ठंड, थकान, मस्तिष्क कोहरे और दिल की धड़कन शामिल है। महाराष्ट्र में कोरोना का डबल म्यूटेंट वैरिएंट पाया गाय है जिसमें हमारे शरीर के प्रमुख अंगों को शिकार बनाने की क्षमता है। नए वैरिएंट के रिसर्च से पता चला है कि यह वायरस का नया रूप सेहतमंद लोगों और बच्चों को भी शिकार बना सकता है। हाल के दिनों में कोरोना संक्रमण में तेजी भी देखी जा रही है। गुरुवार 8 अप्रैल को पूरे देश में कोरोना के 1,18,993 नए मामले सामने आए हैं। इनमें एक्टिव केस की संख्या 9,63,369 है जिनमें लगभग 60 हजार लोग ठीक हो चुके हैं। पूरे देश में 700 से ज्यादा लोगों की मौत की खबर है।

देश में दैनिक नए मामले बढ़ रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 1,31,968 नए मामले दर्ज किए गए हैं। दस राज्यों- महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात और राजस्थान- में कोविड-19 के दैनिक नए मामलों में वृद्धि दिखाई दे रही है। इन दस राज्यों में ही नए मामलों का 83.29 प्रतिशत है। महाराष्ट्र में अधिकतम 56,286 दैनिक नए मामले दर्ज किए गए। इसके बाद छत्तीसगढ़ में 10,652 जबकि उत्तर प्रदेश में 8,474 नए मामले दर्ज किए गए।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए देश में टीकाकरण का अभियान भी तेज कर दिया गया है। गुरुवार को देशभर में कोविड-19 टीके की खुराक दिए जाने की कुल संख्या 9.43 करोड़ से अधिक हो गई है। गुरुवार शाम 7 बजे तक अंतरिम रिपोर्ट के अनुसार, 14,28,500 सत्रों के माध्यम से कुल 9,43,34,262 टीके की खुराकें दी गई हैं। इनमें 89,74,511 स्वास्थ्य कर्मियों ने टीके की पहली खुराक और 54,49,151 स्वास्थ्य कर्मियों ने टीके की दूसरी खुराक, 98,10,164 अग्रिम मोर्चे के कार्यकर्ताओं ने टीके की पहली खुराक, 45,43,954 अग्रिम मोर्च के कार्यकर्ताओं ने टीके की दूसरी खुराक, 60 वर्ष से अधिक उम्र वाले लाभार्थियों में से 3,75,68,033 लाभार्थियों ने टीके की पहली खुराक और 13,61,367 लाभार्थियों ने टीके की दूसरी खुराक और 45 से 60 वर्ष की उम्र के 2,61,03,814 लाभार्थियों ने टीके की पहली खुराक और 5,23,268 लाभार्थियों ने टीके की दूसरी खुराक ली।

भारत में सक्रिय मामलों की संख्या 9,79,608 तक पहुंच गई है। यह देश में कुल पॉजिटिव मामलों का अब 7.50 प्रतिशत है। पिछले 24 घंटों में कुल सक्रिय मामलों की संख्या में शुद्ध रूप से 69,289 मामले शामिल हुए। भारत में कुल सक्रिय मामलों का कुल 73.24 प्रतिशत पांच राज्यों महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और केरल में है। देश में महाराष्ट्र में अकेले कुल सक्रिय मामलों का 53.84 प्रतिशत है। भारत में गुरुवार तक कुल स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 1,19,13,292 है। राष्ट्रीय स्तर पर रिकवरी दर 91.22 प्रतिशत है। पिछले 24 घंटे में 61,899 मरीज स्वस्थ हुए हैं। पिछले 24 घंटों में 700 से ज्यादा मौतें दर्ज की गईं। दस राज्यों में नई मौतों का 92.82 प्रतिशत है। महाराष्ट्र में अधिकतम मृत्यु (376) देखी गई। इसके बाद छत्तीसगढ़ में 94 दैनिक मृत्यु दर्ज की गई।