देश में कोरोना फिर से लौट आया है। और इस बार नए अवतार में लौट कर आया है। लगातार कोरोना फिर से फैलने लगा है। हाल ही में देश में कोरोना वायरस के तनाव के 6 मामले दर्ज किए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि 70 प्रतिशत अधिक संक्रामक है और पहली बार यूनाइटेड किंगडम में रिपोर्ट किया गया था। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि  हाल ही में ब्रिटेन से लौटे व्यक्तियों में सभी छह मामले पाए गए हैं। सेलुलर और मौलिकी जीव विज्ञान केंद्र में दो निमहंस, बेंगलुरु में नए यूके तनाव के लिए सकारात्मक पाए गए।


बताया जा रहा है कि सभी छह सकारात्मक लोगों को एकल कमरे के संगरोध में रखा गया है, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि सह-यात्रियों, परिवार के संपर्कों और अन्य लोगों के लिए व्यापक संपर्क अनुरेखण शुरू किया गया है। अन्य नमूनों पर जीनोम अनुक्रमण चल रहा है। यह स्थिति सावधान की निगरानी में है और इनसैक लैब को नमूनों की बढ़ी निगरानी, नियंत्रण, परीक्षण और प्रेषण के लिए राज्यों को नियमित सलाह दी जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार लगभग 33,000 यात्री यूके से विभिन्न भारतीय हवाई अड्डों पर पहुंचे।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की सिफारिश है कि देशों को कोविड-19 रोगियों के 0.33 प्रतिशत जीनोम को उत्परिवर्ती किस्म का पता लगाने के लिए अनुक्रमित करना चाहिए। प्रत्येक 300 कोरोनो वायरस संक्रमित व्यक्तियों में से एक नए वेरिएंट में कोविड-19 के रोगियों की संख्या बढ़ने की संभावना है। WHO के अनुसार, सितंबर में यूके में पहली बार पहचाना गया, नया स्ट्रेन तेजी से वायरस के अन्य रूपों की जगह ले रहा है। और यह लगातार फैलता ही जा रहा है।