दुनिया के तमाम मुल्कों में टीकाकरण के बावजूद कोरोना के मामलों में कमी नहीं आ रही है।  मौजूदा वक्त में अमेरिका, रूस, ब्राजील समेत कई मुल्क कोरोना के डेल्टा वैरिएंट की तगड़ी मार झेल रहे हैं।  

अमेरिका इन दिनों इस वैरिएंट के प्रकोप से बुरी तरह प्रभावित हुआ है।  रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में बीते सात दिनों से रोज औसतन डेढ़ लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं और महामारी से बड़ी संख्या में मौतें हो रही हैं. आलम यह है कि अमेरिका में महामारी से हर 55 मिनट में एक व्यक्ति की मौत हो रही है। 

अमेरिकी अखबार द न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में तीन सितंबर को कोरोना संक्रमण के 163,667 नए मामले सामने आए जबकि 1550 लोगों की मौत हो गई।  वहीं द वाशिंगटन पोस्ट ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि अमेरिका कोरोना के डेल्टा वैरिएंट की मार झेल रहा है।  जुलाई में महामारी के प्रकोप में कमी आने के बाद एकबार फिर संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़ गई है।  वहीं सिन्हुआ की रिपोर्ट के हवाले से कहा है कि अमेरिका में बीते सात दिनों से संक्रमण के औसत 153,246 मामले सामने आ रहे हैं। 

समाचार के मुताबिक टेक्सास में 27 हजार से ज्यादा छात्र कोरोना संक्रमित पाए गए है।  समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के हवाले से कहा गया है कि टेक्सास के पब्लिक स्कूलों से 29 अगस्त तक कैंपस में 27,353 छात्रों और 4,447 स्टाफ में संक्रमण की पुष्टि हुई।  बताया जाता है कि राज्य में स्कूलों में कक्षाओं के लगने के बाद से पिछले तीन हफ्तों में ही छात्रों में संक्रमण के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की गई है। 

समाचारों के मुताबिक अमेरिका में शनिवार की सुबह तक संक्रमितों का आंकड़ा 39,848,170 था जबकि महामारी से मरने वालों की संख्या 647,573 थी।  25 से 31 अगस्त के दौरान अस्पतालों में भर्ती होने वालों की औसत संख्या 12,156 थी. यह आंकड़ा पिछले सात दिनों के औसत से 1.7 फीसद ज्यादा है।  

अमेरिका में एक हफ्ते यानी सात दिनों के दौरान महामारी से मरने वालों की औसत संख्या 1,047 दर्ज की गई जो पिछले सात-दिवसीय आंकड़े की तुलना में 3.7 फीसद ज्यादा है।