तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर राव कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। इससे पहले वह 14 अप्रैल को एक रैली में भी शामिल हुए थे, जिसमें बड़ी संख्या में लोग जुटे थे। नागार्जुन विधानसभा सीट पर उपचुनाव को लेकर आयोजित हुई रैली में सीएम शामिल हुए थे्। इस रैली में शामिल 60 अन्य लोग भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

 इन संक्रमितों में केसीआर की तेलंगाना राष्ट्र समिति पार्टी के उम्मीदवार नोमुला भगत और उनका परिवार भी शामिल हैं। इसके अलावा कई अन्य सीनियर नेता भी कोरोना संक्रमित हुए हैं। 17 अप्रैल को नागार्जुन सीट पर वोटिंग हुई थी, जिसके लिए आयोजित रैली में 1 लाख लोगों का जुटान हुआ था। 

मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव को कोरोना के मामूली लक्षण महसूस हुए थे, जैसे बुखार और शरीर दर्द। इसके बाद उन्होंने आरटीपीसीआर टेस्ट कराया था और वह कोरोना संक्रमित निकले। डॉक्टरों ने के. चंद्रशेखर राव को होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी है। इसके अलावा उनके स्टाफ को टेस्ट कराने और क्वारेंटाइन में रहने की सलाह दी गई है। इस बीच सीएम के. चंद्रशेखर राव ने राज्य में 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया है। पूरे सूबे में रात को 9 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा। 

प्रदेश सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि इस दौरान राज्य में सभी दफ्तर, फर्म, दुकानें, रेस्तरां और अन्य संस्थान बंद रहेंगे। ये सभी संस्थान रात को 8 बजे ही बंद होंगे। हालांकि अस्पताल, लैब समेत अन्य जरूरी सेवाओं का संचालन जारी रहेगा। प्रदेश सरकार की ओर से यह फैसला सोमवार को हाई कोर्ट की ओर से लगाई गई फटकार के बाद लिया गया है।

हाई कोर्ट ने सोमवार को कहा था कि आखिर सरकार कोरोना संक्रमण से निपटने को लेकर इतनी लापरवाह क्यो हैं। यही नहीं अदालत ने सरकार को नाइट कर्फ्यू या लॉकडाउन जैसे किसी फैसले के लिए 48 घंटे का वक्त दिया था। यही नहीं उच्च न्यायालय ने कहा था कि यदि प्रदेश सरकार की ओर से कोई फैसला नहीं लिया जाता है तो उसे आदेश जारी करना होगा।