सहारनपुर 18 अप्रैल (वार्ता) उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में रोज सैकडों की संख्या में नए कोरोना संक्रमित मिलने से रोगियों की संख्या बढकर रविवार को 15 सौ से ऊपर चली गई। नई पाबंदियों के चलते पहले सें तय विवाह-शादियों का शैडयूल बदल गया और कई शादियां रद्द हो गई। जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने कहा कि बंद स्थानों पर 50 और खुले स्थानों पर 100 लोग ही विवाह समारोह में शामिल हो पाएंगे। 

जिले के सबसे बडे सरकारी अस्पताल में ओपीडी बंद कर दिए जाने से हजारों गरीब रोगियों को उपचार और दवा आदि से वंचित रहना पडा। जिला अस्पताल में आपातकालीन सेवाएं बहाल रही। कुछ चिकित्सकों ने फोन पर ही 50-100 रोगियों को परामर्श दिया। विवाह-शादियों के इस सीजन में फूलों की भारी मांग रहती है। लेकिन कोरोना संक्रमण के बढने से और विवाह-शादियों में लोगों की संख्या कम किए जाने और बडी संख्या में शादियां स्थगित किए जाने और उनके कार्यक्रम बदल जाने की बडी मार फूल उत्पादकों पर पडी।

गांव उमाही कला के राजबीर सिंह का कहना था कि दिल्ली की गाजीपुर मंडी के चार दिन ही खुलने से वहां फूलों की मांग घटने से उनके रेट भी काफी कम हो गए। ग्लेडीओलस और जरबेरा फूलों की खेती करने वाले अश्वनी सैनी ने कहा कि आम दिनों में फूल का रेट 5 से 10 रूपए होता है लेकिन अब फूल की लागत, तुडाई और परिवहन खर्च की रकम भी नहीं मिल रही है। 

एक वर्ष में जिले के फूल उत्पादकों को ढाई से तीन करोड का नुकसान उठाना पडा। गुलाब के बडे उत्पादक कार्तिकेय त्यागी निवासी गांव नैनसाब समेत फूल उत्पादक किसानों ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उत्तराखंड, हिमाचल सरकारों की तरह मुआवजा दिए जाने की मांग की है।