एक ब्रिटिश स्टडी में पता चला है कि कोरोना वायरस (corona virus) का डेल्टा वेरिएंट, vaccinated लोगों से उनके आस-पास के संपर्कों तक आसानी से फैल सकता है। हालांकि, संपर्क में आए लोग अगर वैक्सीनेटेड होंगे, तो उनके संक्रमित होने की संभावना कम होगी।

इंपीरियल कॉलेज लंदन की एक स्टडी (A study from Imperial College London) में पता चलता है कि कैसे बेहद संक्रामक डेल्टा वेरिएंट उस आबादी में भी फैल सकता है जहां लोगों ने टीका लिया हुआ है। शोधकर्ताओं का कहना है कि COVID-19 के गंभीर खतरे को कम करने का सबसे अच्छा तरीका वैक्सीन ही है। साथ ही, उन्होंने बूस्टर शॉट्स (booster shots) की ज़रूरत पर ज़ोर दिया।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों ने वैक्सीन (Vaccine) ली हुई थी उनमें संक्रमण ज़्यादा तेजी से ठीक हुआ, जबकि बिना वैक्सीन वाले लोगों में पीक वायरल लोड समान रहा। स्टडी की सह लेखिका डॉ अनिका सिंगनायगम ने कहा, "कोविड-19 से संक्रमित हुए लोगों से बार-बार नमूना लेने पर, हमने पाया कि टीकाकरण कराने वाले लोग भी संक्रमित हो सकते हैं और अपने घरों में ही संक्रमण फैला सकते हैं। संक्रमण का शिकार वे लोग भी हो सकते हैं जिन्होंने टीका लिया हुआ हो"।

उन्होंने कहा कि शोध के नतीजे अहम इनसाइट देते हैं कि आखिर डेल्टा वेरिएंट की वजह से दुनिया भर में कोविड ​​​-19 के मामले क्यों बढ़ रहे हैं, खासकर ऐसे देशों में जहां टीकाकरण की दर ज़्यादा है।