पश्चिम बंगाल सरकार ने जानलेवा कोरोना वायरस संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए जिलों और शहर में आंशिक लॉकडाउन की घोषणा की है। कोविड-19 के दूसरे चरण में राज्य में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 20,136 नये मामले दर्ज किए गए और 132 और लोगों की मौत हुईं। राज्य में कोरोना वायरस महामारी फैलने के बाद पहली बार दैनिक संक्रमण के मामले 20 हजार से ऊपर आए हैं। 

पिछले 24 घंटों में नये मामले उत्तर 24 परगना में 3998 मामले और 39 लोगों की मौत, कोलकाता में 3973 मामले और 37 लोगों की मौत हुई है, जबकि दक्षिण 24 परगाना में 15, जलपाईगुडी में आठ, दार्जीलिंग और हुगली में सात-सात पश्चिम मेदिनिपुर बीरभूम में चार-चार और पुरुलिया में तीन लोगों की इस महामारी से मौत हो गयी है। राज्य में इस अवधि के दौरान 68,142 नमूनों को परीक्षण किया गया और उत्तर 24 परगना और कोलकाता में रिकॉर्ड अधिकतम नमूनों का परीक्षण किया गया है। यह महामारी विशेष रूप से शहरी और शहर से जुड़े क्षेत्रों में फैल रही है शहरों में चिकित्सा सुविधाओं की कमी भी महसूस की गई है। 

राज्य में पिछले 24 घंटों में 20136 नये संक्रमित मामले सामने आने के साथ संक्रमितों का ग्राफ ऊपर चढ़ गया है, जबकि इस महामारी के संक्रमण से 132 और लोगों की जान चले जाने के साथ मृतकों का कुल आंकड़ा 12593 तक पहुंच गया है। पिछले 24 घंटों में कोरोना के संक्रमण से प्रभावित 18,994 मरीजों ने इसे मात दे दी है और राज्य में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 8,92,474 हो गयी है। इस बीच, पश्चिम बंगाल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजूकेशन ने एक जून से शुरू होने वाली दसवीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है। बोर्ड अधिकारियों ने कहा है लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने के दौरान परिवहन और स्थनीय ट्रेनों के परिचालन के बिना एक जून से परीक्षाएं कराना संभव नहीं है। इसी के मद्देनजर राज्य सरकार ने दसवीं की परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है।