देश में कोरोना के संक्रमण से पहले त्राही त्राही मता हुई है। कोरोना से कोहराम कम नहीं हो रहा है। कोरोना कई तरह क अवतार लेकर देश में हमला कर रहा है। कोरोना के कहर से गांव के गांव तबाह हो रहे हैं। कोरोना से सबसे ज्यादा गांव के लोग ही मर रहे हैं। इसी तरह से कोरोना का नया रूप आया है ‘ब्लेक फंगल’ 10 राज्योंै में कोविड से उत्पन्न म्यूकोरमाइसिस यानी ब्लै क फंगस का खतरा बढ़ता दिख रहा है।

ब्लैक फंगल से रोगियों की आंखों की रोशनी जा रही है और साथ ही जबड़े व नाक की हड्डियां भी गलना शुरू हो जाती है। म्यूकोरमाइसिस खतरनाक फंगल संक्रमण के मामलों में फिर से वृद्धि देख रहे हैं। बीते कुछ दिनों में हमने म्यूकोरमाइसिस से पीड़ित 1000 रोगियों को भर्ती किया है। बीते साल इस घातक संक्रमण में मृत्यु दर काफी अधिक रही है। ये इतनी गंभीर बीमारी है कि इसमें मरीज को सीधे आईसीयू में भर्ती करना पड़ रहा है।

ब्लैक फंगस से प्रभावित गुजरात के साथ ही महाराष्ट्र, दिल्ली, मध्यप्रदेश, राजस्थान, कर्नाटक, तेलंगाना, यूपी, बिहार और हरियाणा राज्य हैं। बता दें कि कोरोना मरीजों में पहले अगर किसी तरह की कोई गंभीर बीमारी है तो उनमें ब्लैयक फंगस का खतरा बढ़ जाता है। कोविड-19 के उपचार में स्टेरॉयड का उपयोग इस बात को ध्यान में रखकर किया जाता है कि कई कोरोनो  के मरीजों को डायबिटीज होता है। जिस किसी भी मरीज को डायबिटीज की शिकायत होती है उनमें ब्लैक फंगस की समस्याा ज्या्दा देखी गई है।
a