कोरोना वायरस इस समय पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है और इसको खत्म करने वाली दवाईयों की खोज और परीक्षण जारी है। लेकिन इसी बीच एक चौंकाने वाला सच सामने आया है। जी हां, कोरोना वायरस को किसी दवाई के अलावा एक कोई चीन खत्म कर सकती है तो वो है तांबा। यह बात तो पहले ही प्रमाणित हो चुकी है कोरोना वायरस निर्जीव वस्तुओं पर भी 9 दिन तक जिंदा रह सकता है। लेकिन तांबे से बनी वस्तुओं बर्तनों के संपर्क में आते ही कोरोना वायरस मर जाता है।

अब वैज्ञानिक प्रयास कर रहे हैं कि ज्यादातर वस्तुओं की सतह ऐसी धातु से बनाया जाए जिससे उसपर बैक्टीरिया वायरस का असर कम हो या न बिल्कुल भी नहीं हो। और ऐसी एकमात्र धातु है तांबा जो बैक्टीरिया को अपने संपर्क में आते ही तुरंत खत्म कर देता। ऐसे में वैज्ञानिकों को अब तांबे से इस खतरनाक वायरस को खत्म करने वाली उम्मीद की किरण नजर आई है।

हालांकि तांबे के गुणों से भारतीय बहुत पहले से परिचित हैं। भारत में तांबे के बर्तनों का उपयोग सदियों से होता आ रहा है, और अभी भी कुछ लोग इसका उपयोग करते हैं। आयुर्वेद में भी यह बात प्रमाणित है कि तांबे में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं। साथ ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है।

2015 में यूनिवर्सिटी ऑफ साउथहैम्पटन ने एक शोध कर कहा था कि तांबा रेस्पिरेटरी वायरस यानी कि फेफड़ों को संक्रमित करने वाले वायरस से बचा सकता है। रेस्पिटेरी वायरस जैसे - सार्स और मर्स जैसे वायरस। साथ ही इस शोध में यह भी पता चला कि जीव-जंतुओं से इंसानों में आने वाले कोरोना वायरस 229E को भी तांबा मार सकता है। यह वायरस बाकी वस्तुओं की सतह पर कई दिनों तक जी सकता है लेकिन तांबे की सतह पर यह तुरंत मर जाता है।

हालांकि नया कोरोना वायरस यानी कोविड 19 तांबे के संपर्क में आने से मरेगा या नहीं इस पर शोध जारी है और उम्मीद है कि परिणाम सकारात्म ही आने वाले हैं।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360