राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ पदाधिकारी जे़ नंदकुमार ने कहा कि मांसाहार का सेवन वर्जित नहीं है और देश में इस पर प्रतिबंध नहीं लगाया जा सकता लेकिन गोमांस से बचना चाहिए। संघ के अनुषंगी संगठन प्रज्ञा प्रवाह के प्रमुख नंदकुमार ने यह भी कहा कि यह उनकी निजी राय है, संघ की नहीं।

यह भी पढ़े : पाकिस्तानी अंपायर असद रऊफ का निधन, मैच फिक्सिंग की वजह से आए थे चर्चा में 


उन्होंने गुवाहाटी में 20 सितंबर से देश की विविधता के उत्सव के रूप में तीन दिवसीय सम्मेलन ‘लोकमंथन’ के आयोजन की घोषणा की और इसी दौरान वह सवालों का जवाब दे रहे थे। कुमार ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि समारोह का उद्घाटन उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ करेंगे जिसमें पूर्वोत्तर की संस्कृति पर विशेष जोर होगा। संघ के विभिन्न सहयोगी संगठनों द्वारा आयोजित इस सम्मेलन के समापन समारोह को केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले संबोधित करेंगे।

यह भी पढ़े : Shukra Asta 2022: 15 सितंबर से अस्त होने जा रहे शुक्र , बढ़ सकती है इन राशि वालों की मुश्किलें


नंदकुमार ने कहा, ‘‘कुछ विरोधी ताकतें देश की एकता के खिलाफ भयावह अभियान चला रही हैं। हम सम्मेलन में हमारी एकता को मजबूत करने वाली विविधता का उत्सव मनाना चाहते हैं।’’ देश में विभिन्न प्रकार के खानपान की आदतें होने और संघ तथा अन्य भगवा संगठनों पर लोगों पर अपनी पसंद थोपने के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर नंदकुमार ने कहा, ‘‘मांसाहार वर्जित नहीं है और इसे प्रतिबंधित नहीं किया जा सकता।’’

यह भी पढ़े : दुरंतो एक्सप्रेस में सफर कर रही महिला ने दिया बच्चे को जन्म , मेडिकल की छात्रा ने कराई डिलीवरी


उन्होंने यह भी कहा कि यह उनकी निजी राय है, संघ की नहीं। उन्होंने ‘पीटीआई भाषा’ से कहा, ‘‘आम लोग मांसाहार का सेवन करते हैं। आप यह नहीं कह सकते कि यह भारत में प्रतिबंधित है। जलवायु संबंधी परस्थितियों और भौगोलिक स्थितियों के अनुसार लोग इस तरह का भोजन करते हैं।’’ नंदकुमार ने कहा कि तटीय क्षेत्रों और पूर्वोत्तर राज्यों में लोग मांसाहार का सेवन करते हैं और यह वहां की आम जनता के लिए मुख्य आहार है। गोमांस के संदर्भ में उन्होंने कहा कि इसका सेवन नहीं करने के लिए वैज्ञानिक और पारंपरिक दोनों तरह के कारण हैं।