कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की नेशनल हेराल्ड मामले में गुरुवार को प्रवर्तन निदेशालय-ईडी में पेशी के खिलाफ कांग्रेस दिल्ली सहित देशभर में विरोध प्रदर्शन कर अपने नेता के साथ एकजुटता प्रदर्शित करेगी। कांग्रेस सूत्रों ने बताया कि इस संदर्भ में राज्यसभा में विपक्ष के नेता मलिकार्जुन खडगे के आवास पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक हुई, जिसमें विरोध प्रदर्शन की रणनीति पर विचार किया गया। 

ये भी पढ़ेंः बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का संदेश देने को मंत्री आर्या करेंगी पैदल कांवड़ यात्रा


बैठक में कहा गया कि सरकार राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से काम कर विपक्ष के नेताओं के खिलाफ सरकारी एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है और इसके विरुद्ध देशभर में प्रदर्शन होगा जिसकी रणनीति पर यहां चर्चा हुई। बैठक में खडगे के अलावा लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, राजस्थान की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, संसद के सुरेश, कुमारी सैलजा, तारिक अनवर, अभिषेक मनु सिंघवी सहित कई वरिष्ठ नेताओं ने हिस्सा लिया। कांग्रेस ने इसकी जानकारी देते हुए कहा, आज पूरा देश मोदी सरकार का राजनैतिक प्रतिशोध, तानाशाही और गुंडागर्दी देख रहा है। पर ईडी, सीबीआई जैसी कठपुतलियों से हम नहीं डरते। 

ये भी पढ़ेंः कांवड यात्रा व अन्य त्यौहारों के मद्देनजर सहारनपुर में 15 सितंबर तक धारा 144 लागू


खड़गे के निवास पर कांग्रेस अध्यक्ष  सोनिया गांधी जी के खिलाफ ईडी के दुरुपयोग के विरोध में वरिष्ठ नेताओं ने रणनीति तय की। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख जयराम रमेश ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की आलोचना करते हुए कहा, मोदी-शाह की जोड़ी द्वारा हमारे शीर्ष नेतृत्व के खिलाफ जिस प्रकार से राजनीतिक प्रतिशोध जारी है, उसके विरुद्ध कांग्रेस पार्टी अपनी नेता सोनिया गांधी के साथ सामूहिक एकजुटता व्यक्त करते हुए गुरुवार को देश भर में प्रदर्शन करेगी। इस बीच कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि सत्याग्रह करना उनका अधिकार है और राजनीतिक प्रतिशोध के जरिए जिस तरह से सरकार कांग्रेस के खिलाफ कदम उठा रही है उसका पूरे देश में अहिंसक सत्याग्रह कर करारा जवाब दिया जाएगा।