देश के कई राज्यों में गुटबाजी और बगावत झेल रही कांग्रेस पार्टी को अब गोवा में भी बड़ा झटका लगा है। पूर्व सीएम दिगंबर कामत और माइकल लोबो की लीडरशिप वाले 8 विधायकों का गुट भाजपा में शामिल हो गया है। केदार नाइक, संकल्प अमोनकर, राजेश फलदेसाई और रुडोल्फ फर्नांडीस भी कांग्रेस छोड़कर भाजप में शामिल हो गए हैं। एएनआई के मुताबिक इन विधायकों ने सीएम प्रमोद सावंत से भी मुलाकात की थी।

यह भी पढ़े : अब कार की खिड़कियों पर ब्लैक फिल्म और नेट का प्रयोग प्रतिबंधित, दोनों पर लगेगा जुर्माना

गोवा भाजपा के अध्यक्ष सदानंद शेट तनावड़े ने भी कहा है कि कांग्रेस के विधायक भाजपा में शामिल हो गए हैं। कहा जा रहा है कि इन विधायकों ने अपने फैसले के बारे में असेंबली स्पीकर को बता दिया था, जो फिलहाल दिल्ली में हैं और बुधवार शाम तक गोवा आ सकते हैं। फिलहाल विधानसभा परिसर की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। इसके अलावा सरकार की आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस होने वाली थी, उसे भी टाल दिया गया है। 

इससे पहले जुलाई में भी कांग्रेस के कुछ विधायकों ने दलबदल की कोशिश की थी, लेकिन उनके ग्रुप में ही मतभेद होने के चलते प्लान फेल हो गया था। हालांकि उसके कुछ सप्ताह बाद से ही माइकल लोबो और दिगंबर कामत एक बार फिर से विधायकों को अपने साथ लाने की कोशिश में जुट गए थे। हाल ही में माइकल लोबो दिल्ली आए थे और गोवा पहुंचने पर कहा था कि वह महंगाई के खिलाफ कांग्रेस के प्रदर्शन में हिस्सा लेने गए थे। हालांकि उन्हें दिल्ली में कांग्रेस के प्रोटेस्ट के दौरान नहीं देखा गया था। इसके अलावा कामत को लेकर भी जानकारी सामने आई थी कि वह दिल्ली गए थे। 

यह भी पढ़े : Numerology Horoscope 14 September : आज का दिन इन तारीखों में जन्मे लोगों के लिए रहेगा भाग्यशाली

बता दें कि गोवा में दलबल का एक लंबा इतिहास रहा है। 1989 से 2000 के दौरान महज 12 सालों में ही राज्य में 13 मुख्यमंत्री रहे हैं। दलबदल के चलते लगातार गोवा ने सरकारों के आने और जाने का दौर देखा था। यही नहीं पिछले विधानसभा कार्यकाल में कांग्रेस के 10 विधायकों ने भाजपा का दामन थाम लिया था। इसके अलावा राज्य के 27 ऐसे विधायक थे, जो 2022 के चुनाव आते तक उस दल में नहीं रहे, जिससे उन्होंने 2017 में जीत हासिल की थी।