प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने कहा है कि पार्टी एेसे वास्तविक भारतीय नागरिकों को मुफ्त कानूनी सहायता मुहैया कराएगी, जिनके नाम 31अगस्त को प्रकाशित होने वाली एनआरसी सूची से बाहर रह जाएंगे। बोरा ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सभी वास्तविक भारतीय नागरिकों को संरक्षण मुहैया कराने और अवैध विदेशियों की पहचान करने तथा राष्ट्रीय नागरिक पंजी(एनआरसी) में उनका नाम शामिल नहीं हो, इसके लिए कांग्रेस ने ही राज्य में एनआरसी प्रक्रिया की शुरुआत की थी।


राज्यसभा सदस्य बोरा ने कहा, कांग्रेस का कानूनी प्रकोष्ठ एनआरसी सूची से बाहर रह जाने वाले वास्तविक भारतीय नागरिकों को निःशुल्क सहायता मुहैया कराएगा ताकि उनके साथ नाइंसाफी नहीं हो। इसके लिए पार्टी मुख्यालय की ओर से राज्य की सभी जिला इकाइयों को जरूरी दिशा-निर्देश प्रेषित किए जा रहे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के उस बयान का भी स्वागत किया, जिसमें मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था की समस्या पैदा करने वाले लोगों को गिरफ्तार किए जाने की बात कही थी।


लेकिन साथ ही साथ यह भी कहा कि मुख्यमंत्री को इसकी शुरुआत अपनी ही पार्टी के विधायक शिलादित्य देव से करनी चाहिए, जो लंबे समय से एनआरसी के बारे में भडकाऊ बयान दे रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस प्रमुख ने कहा,अगर मुख्यमंत्री राज्य में शांति और सौहार्द्र बनाए रखने को लेकर गंभीर हैं तो उन्हें होजाई के विधायक की गिरफ्तारी सुनिश्चित करनी चाहिए क्योंकि वह लगातार सांप्रदायिक बयान देते रहे हैं और लोगों के मन में डर पैदा करते हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र और राज्य में भाजपा सरकार मूल भारतीय नागरिकों के हितों की रक्षा के लिए गंभीर नहीं है, इस कारण से उनके मन में डर पैदा हो रहा है। उन्होंने राज्य के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की, क्योंकि कांग्रेस सुनिश्चित करेगी कि देश के किसी भी वास्तविक नागरिक का नाम एनआरसी से नहीं छूटे।