राजस्थान में चल रहे सियासी संकट के चलते अब मोदी सरकार में मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत की गिरफ्तारी की मांग उठाई गई है। इसी के साथ ही कांग्रेस के भीतर जो लड़ाई चल रही है, अब वो लगातार बढ़ती जा रही है। कांग्रेस पार्टी ने एक बार फिर सचिन पायलट गुट और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं पर अशोक गहलोत सरकार को गिराने का आरोप लगाया है।
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने इस दौरान दो ऑडियो का जिक्र किया, जिसमें कथित तौर पर केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और बागी कांग्रेस विधायक भंवर लाल शर्मा के बीच पैसों की लेनदेन को लेकर बात हो रही है।
सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि आज बीजेपी राजस्थान की सरकार गिराने की कोशिश कर रही है, इसके कुछ ऑडियो भी सामने आ रहे हैं। जिसमें राजस्थान के कांग्रेस विधायकों को खरीदने की कोशिश की जा रही है।
कांग्रेस नेता ने कहा कि केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत इस पूरी साजिश में शामिल हैं। उन पर तुरंत FIR दर्ज होनी चाहिए और गिरफ्तारी की जानी चाहिए। जांच में सामने आना चाहिए कि केंद्र सरकार के कौन से व्यक्ति इस पूरी प्रक्रिया में शामिल हैं।
गजेंद्र सिंह शेखावत राजस्थान बीजेपी के बड़े नेता हैं और मौजूदा वक्त में केंद्र सरकार में जल शक्ति मंत्री हैं। जब से गहलोत सरकार पर संकट शुरू हुआ है, तभी से ही गजेंद्र सिंह शेखावत चर्चा में हैं।
इस मामले में कांग्रेस की ओर से SOG को शिकायत की गई है, ये वही ग्रुप है, जिसने सचिन पायलट को नोटिस जारी किया था। इतना ही नहीं, इस बातचीत में जिस विधायक का नाम लिया गया, उसे ही कांग्रेस पार्टी प्रेस कॉन्फ्रेंस में लाई और बयान दिलवाया। अब विधायक अपना बयान SOG के सामने दर्ज कराएंगे।
कांग्रेस ने इस मामले में एक्शन लिया है और सचिन पायलट गुट के दो विधायकों को निलंबित कर दिया है। भंवरलाल शर्मा और विश्वेंद्र सिंह को पार्टी की सदस्यता से निलंबित किया गया है। खबर है कि शेखावत के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज कराई गई है।