पश्चिम मेदिनीपुर जिला अंतर्गत मेदिनीपुर में असम नरसंहार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में भी कांग्रेस की गुटबाजी सतह पर नजर आ गई। संगठन के दो धड़े ने समान मुद्दे पर अलग-अलग विरोध प्रदर्शन किया। एक ने चक्का जाम तो दूसरे ने पदयात्रा निकाल कर घटना पर विरोध जताया।

असम के तिनसुकिया में पांच बांग्लाभाषी युवकों की हत्या के खिलाफ मेदिनीपुर के विद्यासागर सारिणी से जिलाध्यक्ष समीर राय के समर्थक माने जाने वाले टाउन अध्यक्ष शांति दत्ता के नेतृत्व में पदयात्रा निकाली गई। इस रैली में खुद राय के साथ ही शमशाद हुसैन, मोहम्मद सैफुल आदि शामिल हुए। दूसरी ओर पार्टी के दूसरे धड़े ने जगन्नाथ मंदिर के समक्ष सड़क जाम कर करीब एक घंटे तक वाहनों का आवागमन ठप कर दिया। 

इस अवसर पर उपस्थित नेताओं में सोमेन खान, मंटू अहमद, पार्थ भट्टाचार्य आदि शामिल रहे। वक्ताओं ने कहा कि असम में जब तक कांग्रेस का राज था कभी ऐसी घटना नहीं हुई। निश्चित रूप से इस घटना के लिए भाजपा जिम्मेदार है। जो ¨हसा को रोक पाने में पूरी तरह से विफल रही। अलग-अलग प्रदर्शन पर जिलाध्यक्ष समीर राय ने कहा कि पार्टी एक है। एक ही मुद्दे पर अलग-अलग प्रदर्शन में आखिर बुराई क्या है।