सुप्रीम कोर्ट प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के खिलाफ दायर उस याचिका पर सुनवाई के लिए राजी हो गया है जिसमें दोनों के खिलाफ आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में कार्रवाई की मांग की गई है। यह याचिका कांग्रेस की महिला विंग की अध्यक्ष और सांसद सुष्मिता देव ने दायर की थी।


उनकी मांग है कि सुप्रीम कोर्ट चुनाव आयोग को भाजपा अध्यक्ष और प्रधानमंत्री के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दे। कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट से मांग की है कि इस मामले की
सुनवाई जल्द से जल्द हो। सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को इस पर सुनवाई करेगा। सुष्मिता देव ने अपनी याचिका में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कई बार चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है। कांग्रेस चुनाव आयोग के इसके सबूत दे चुकी है।


देव का कहना है कि दोनों ही नेताओं ने भडक़ाऊ भाषण दिए और अपने भाषणों में देश की सेना के नाम पर वोट मांगे जबकि चुनाव आयोग ने इस पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा रका है। देव का आरोप है कि कांग्रेस ने चुनाव आयोग से इसकी शिकायत भी की थी कि 23 अप्रेल को अहमदाबाद में वोट डालने के बाद भाजपा ने रैली की जो आचार संहिता के खिलाफ है लेकिन चुनाव आयोग ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है। आपको बता दें कि भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने अदालत की अवमानना के मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। राहुल गांधी सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर अपने बयान पर खेद जता चुके हैं।