लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (BSP) की अध्यक्ष मायावती (mayawati) ने पंजाब में दलित मुख्यमंत्री और राजस्थान में दलित मंत्री बनाये जाने को कांग्रेस का छल बताते हुये इसे राजनीतिक स्वार्थ का प्रतीक बताया है। 

मायावती ने रविवार को राजस्थान में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार में शामिल किये गये मंत्रियों की ओर इशारा करते हुये कहा, 'कांग्रेस द्वारा पार्टी के गिरते जनाधार को रोकने व राजनीतिक स्वार्थ हेतु पंजाब में विधानसभा आमचुनाव से ठीक पहले दलित को सीएम बनाना तथा अब राजस्थान में कुछ एससी/एसटी मंत्री बनाकर उसको भाजपा द्वारा केन्द्रीय मंत्रिमण्डल विस्तार की तरह इनके हितैषी होने का ङ्क्षढढोरा पीटना शुद्ध छलावा है।'

उन्होंने कांग्रेस पर दलितों का अपमान करने का आरोप लगाते हुये ट्वीट कर कहा, 'खासकर कांग्रेस पार्टी ने इनके मसीहा व संविधान निर्माता बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर को आदर-सम्मान देना व भारतरत्न से सम्मानित करना तो दूर बल्कि हमेशा उनकी उपेक्षा व तिरस्कार किया है, तो फिर इन जैसी जातिवादी पार्टियाँ एससी/एसटी व ओबीसी की सच्ची हितैषी कभी कैसे हो सकती हैं।'

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री कांग्रेस की पूर्व सरकारों पर तानाशाहीपूर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुये कहा, 'वैसे पूर्व में देश ने खासकर कांग्रेस पार्टी की श्रीमती इन्दिरा गांधी की रही सरकार के अहंकार एवं तानाशाही वाले रवैये आदि को काफी झेला है, किन्तु अब पूर्व की तरह वैसी स्थिति देश में दोबारा उत्पन्न नहीं हो, ऐसी देश को आशा है।'