ऐसे समय में जबकि राज्य सरकार, सत्ताधारी भाजपा और एपीडब्लयू के साथ पूर्व मुख्यमंत्री तथा कांग्रेस के बुजुर्ग नेता तरुण गोगोई भी सुर मिलाते नजर आ रहे हैं, वरिष्ठ एआईसीसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने एनआरसी राज्य संयोजक रहे प्रतिक हाजेला का बचाव किया है। उनकी राय में मन-मुताबिक 40-50 लाख लोगों के एनआरसी से बाहर नहीं होने के कारण ही हाजेला सरकार की आंख की किरकिरी बन गए हैं।

 


वरिष्ठ एआईसीसी नेता रमेश को यहां राजीव भवन में पत्रकारों से बात कर रहे थे। बकौल रमेश-सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर चल कर जिसने एनआरसी लागू किया, उस आईएएस अफसर प्रतीक हाजेला के खिलाफ असम सरकार और उसके एक दबंग मंत्री ने आचानक आरोप लगाए हैं।



पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, एनआरसी असम सरकार ने लागू की है। पहले भाजपा कहती थी कि राज्य में 40 लाख से ज्यादा अवैध घुसपैठिए हैं। एनआरसी प्रकाशित होने के बाद जब 19 लाख लोग ही बाहर किए गाए तो सब गड़बड़ हो गया।  भाजपा की मंशा के अनुसार संख्या नहीं निकली। इसलिए आज असम सरकार और दबंग मंत्री एनआरसी को बदनाम करने के लिए लग गए हैं।