कांग्रेस विधायक रुपज्योति कुर्मी ने सरकार पर राज्य के 80 लाख चाय जनजाति और आदिवासी समूह की चरम उपेक्षा का आरोप लगाया है। उनके मुताबिक असम विधानसभा में एक बकरी चोर विधायक है। वे यहां पत्रकारों से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि आलम यह है कि बीते 8 माह से श्रम विभाग का कोई मंत्री नहीं है। चाय जनसमुदाय के कल्याण का दायित्व इस विभाग के अंतर्गत आता है। इससे पता चलता है कि सरकार कितना गंभीर है।


विधायक कुर्मी ने वित्त मंत्री हिमंत विश्व शर्मा पर भी यह कहकर निशाना साधा कि बिते ढाई साल में उन्होंने चाय बागान इलाके में कोई सभा नहीं की।  राज्य में उद्योग-धंधे बंद हो रहे हैं। गुवाहाटी औऱ इसके आसपास के इलाके में हालत गंभीर है। उन्होंने कहा कि सरकार ने भ्रष्टाचार मुक्त राज्य बनाने से लेकर कई तरह की मुक्ति की बातें कीं थीं  लेकिन  कुछ तो नहीं हुआ लेकिन कल-कारखाने मुक्त राज्य तो हो ही गया है।


भाजपा पर रुपयों के बल पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए विधायक कुर्मी ने कहा कि असम विधानसभा में एक बकरी चोर विधायक भी है। हालांकि उन्होंने उनका नाम पत्रकारों के सामने नहीं लिया।