कांग्रेस पार्टी ने मंगलवार को केंद्रीय अनुशासनात्मक कमेटी की बैठक बुलाई है। बैठक में पंजाब के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ और केरल कांग्रेस के नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री के.वी. थॉमस के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की जा सकती है।

ये भी पढ़ेंः अब रूस को मिलेगा करारा जवाब, युद्ध के बीच कीव में जेलेंस्की से मिले अमेरिकी विदेश मंत्री और रक्षा सचिव


केंद्रीय अनुशासनात्मक कमेटी की बैठक सुबह करीब 11:30 बजे कांग्रेस वॉररूम में आयोजित की जाएगी। दो सप्ताह पूर्व कांग्रेस पार्टी ने अनुशासनात्मक कमेटी की बैठक बुलाकर सुनील जाखड़ और के.वी. थॉमस को कारण बताओ नोटिस (शो कॉज नोटिस) दिया था। दोनों ही नेताओं को एक हफ्ते के भीतर अपनी बात पार्टी के अनुशासनात्मक कमेटी के सामने रखने को कहा गया था। थॉमस ने तो पार्टी के अनुशासनात्मक कमेटी को अपना जवाब भेजा दिया, लेकिन सुनील जाखड़ ने कोई जवाब नहीं दिया। अब दोनों नेताओं के मसले पर अनुशासनात्मक कमेटी की बैठक मंगलवार को होगी।

ये भी पढ़ेंः BJP वालों के उड़े होश! PM मोदी के घर नमाज पढ़ेंगी ये मुस्लिम नेता, अमित शाह को लिखा पत्र


दरअसल पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश चौधरी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर सुनील जाखड़ पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की मांग की थी। हरीश चौधरी ने अपने पत्र में लिखा है कि सुनील जाखड़ के बयान से पार्टी को पंजाब में नुकसान हुआ और वह लगातार पार्टी के खिलाफ बयानबाजी करते रहे। इसके साथ ही पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने राहुल गांधी से मुलाकात कर सुनील जाखड़ की शिकायत की थी। हालांकि, सुनील जाखड़ ने अपनी सफाई देते हुए कहा था कि उनके बयान को संदर्भ से इतर समझा गया। वहीं दूसरी ओर केरल कांग्रेस के अध्यक्ष के. सुधाकरण ने भी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर थॉमस पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की मांग की थी। उन्होंने कहा कि थॉमस ने पार्टी लाइन से अलग जाकर कन्नूर में सीपीआई (एम) के कार्यक्रम में शिरकत की जबकि कांग्रेस की ओर से उन्हें सीपीआई (एम) के कार्यक्रम में नहीं जाने के लिए कहा गया था। केरल में सीपीआई (एम) ने अपने सेमीनार में केवी थॉमस और शशि थरूर को आमंत्रित किया था। थरूर ने पार्टी के निर्देश का पालन किया, लेकिन थॉमस सीपीआई (एम) के सेमीनार में पहुंचे थे, जिसका जवाब थॉमस ने तो पार्टी के अनुशासनात्मक कमेटी को भेज दिया है।