नई दिल्ली। आज के समय में छोटी और बड़ी कंपनियां अपने कर्मचारियों का खास ख्याल रखने लगी हैं। अच्छी सैलरी, अच्छा माहौल और कर्मचारियों को अच्छी ग्रौथ देना कंपनियों की पहली प्राथमिकताओं में से एक बन गया है। कई बार सैलरी के साथ फूड कूपन, पास व कई अन्य फायदे भी कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को दिए जाते हैं। लेकिन इंग्लैंड की एक कंपनी अपने कर्मचारियों का ख्याल रखने में दो कदम आगे निकल गई है। 'टैलीमनी' नाम की कंपनी अपने कर्मचारियों को सैलरी की जगह 'सोना' सोना दे रही है।

यह भी पढ़ें : असम सरकार का युवाओं को दिया शानदार तोहफा, 11 सरकारी विभागों में लगभग 23,000 जॉब्स का सौंपा नियुक्ति पत्र

एक रिपोर्ट के मुताबिक वित्तीय सेवा देने वाली 'टैलीमनी' नाम की कंपनी अपने कर्मचारियों के वर्तमान और भविष्य को ध्यान में रखते हुए उन्हें सैलरी के बदले सोना दे रही है। हालांकि ये नयी सैलरी पॉलिसी अभी ट्रायल पर है। कंपनी में सीनियर पोस्ट पर मौजूद 20 लोगों को ही अभी ये लाभ दिया गया है। लेकिन अगर इस सिस्टम से कर्मचारियों को फायदा हुआ तो कंपनी इसे सभी कर्मचारियों को ऑफर करने का मन बना चुकी है। 

यह भी पढ़ें : त्रिपुरा में बिप्लब देब के अचानक इस्तीफे पर शुरू हुआ राजनीतिक घमासान, CPI (M) ने बताया 'अहंकार और तानाशाही रवैया'

कंपनी के सीईओ कैमरन पैरी ने बताया कि कोरोना के कारण हालत बद से बदतर हो गई है। ऐसे में कर्मचारियों को पाउंड में सैलरी देने का कोई मतलब नहीं है। हर गुजरते दिन के साथ इसकी वैल्यू कम ही हो रही है। साथ ही उन्होंने कर्मचारियों को सोना देने को लेकर कहा कि पाउंड लगातार मार्केट में अपनी खरीदने की क्षमता को खो रहा है। ऐसे में सोना हमारे कर्मचारियों को इन्फ्लेशन में हमेशा आगे रखेगा। पैरी आगे कहते हैं कि हम अपने कर्मचारियों को वित्तीय संकट से बचाने के लिए ही सोना देने की पॉलिसी लेकर आए हैं। उन्होंने ये भी बताया कि अगर कोई कर्मचारी नकद सैलरी ही लेना चाहे तो वो उसे भी चुन सकता है। 

जैसे ही ये खबर सुर्खियों में आई कंपनी की इस पॉलिसी को तारीफ मिलनी शुरू हो गई। कंपनी की इस पॉलिसी की सोशल मीडिया जगत में खूब वाह वाही हो रही है। साथ ही आर्थिक विशेषज्ञ भी इसे आर्थिक संकट से निपटने के लिए अच्छा कदम बता रहे हैं।