अंतरिक्ष में खगोलिय घटनाएं होना कोई नई बात नहीं है। नई खबर यह है कि हमारे सौर मंडल (Solar System) के बाहरी हिस्से से ऐसा विशाल धूमकेतु (comet) आ रहा है। वैज्ञानिक अध्ययन के लिहाज से इसे बेहद अच्छा मौका मान रहे हैं। इसका आकार विशाल है और दूरी भी कम है जो दुर्लभ ही होता है। इसका नाम उरूट क्लाउड (Oort Cloud) बताया जा रहा है। यह सौर मंडल के कई रहस्यों को उजागर भी कर सकता है। यह धूमकेतु 30 लाख साल से सौर मंडल में नहीं आया है। 


यूनिवर्सिटी ऑफ पेन्सिलवेनिया के ऐस्ट्रोनॉमर गैरी बर्नस्टीन (Astronomer Gary Bernstein) और उनकी टीम ने इस धूमकेतु की खोज की थी। उन्होंने इसके बारे में और ज्यादा जानकारियां नए पेपर में बताई हैं। टीम ने अपने विश्लेषण में पाया है कि इसने 40,400 एयू (खगोलिय इकाई) की दूरी पर सूरज की ओर सफर शुरू किया था। जब इसकी खोज की गई थी तो यह 29 एयू की दूरी पर था। माना जा रहा है कि यह 10 साल बाद 2031 में सूरज के सबसे करीब 10.97 एयू पर होगा।

धूमकेतु भी (Asteroids) की तरह सूरज का चक्कर काटते हैं लेकिन वे चट्टानी नहीं होते बल्कि धूल और बर्फ से बने होते हैं। जब ये धूमकेतु सूरज की तरफ बढ़ते हैं तो इनकी बर्फ और धूल वेपर यानी भाप में बदलते हैं जो हमें पूंछ की तरह दिखता है। खास बात ये है कि धरती से दिखाई देने वाला कॉमट दरअसल हमसे बेहद दूर होता है। वहीं, Oort Cloud ऐसा क्षेत्र है जहां सौर मंडल का चक्कर काटने वाली गैस और धूल होती है।