रिपब्लिक टीवी के संस्थापक अर्नब गोस्वामी को पूराने केस मां-बेटे की खुदखूशी के मामले में गिरफ्तार किया गया था। कई राजनेताओं ने अर्नब की गिरफ्तार पर आपत्ती जाहिर की थी। लेकिन अब अर्नब को जमानत मिल गई है। अर्नब की जमानत पर स्टैंड-अप कॉमेडियन कुणाल कामरा ने अपनी बात ट्वीट पर रखी। जिस पर सुप्रीम कोर्ट की आलोचना करने वाले ट्वीट्स की एक श्रृंखला पर अवमानना का आरोप लगाया है।


अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कामरा, बार और बेंच के खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू करने के लिए अपनी सहमति दी है। मुंबई स्थित अधिवक्ता ने वेणुगोपाल से कॉमेडियन के खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू करने की अनुमति मांगी थी, ताकि सुप्रीम कोर्ट ने रिलीज के लिए उनके ट्वीट के खिलाफ कार्यवाही की। गोस्वामी के रिजवान सिद्दीकी ने दावा किया कि कामरा की टिप्पणी उनके कथित रूप से "अपमानजनक और अनियंत्रित" स्वभाव के लिए अवमानना थी।


पुणे में स्थित दो अन्य वकील, और एक कानून के छात्र ने भी वेणुगोपाल से कामरा के खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू करने की सहमति मांगी है। वेणुगोपाल ने कहा कि यह समय आ गया है कि लोग सर्वोच्च न्यायालय पर अन्यायपूर्ण और क्रूरता से हमला करने की सजा को समझेंगे। कॉमेडियन के ट्वीट न केवल बुरे शब्द में थे बल्कि स्पष्ट रूप से हास्य और अवमानना के बीच की रेखा को पार कर दिए थे। इन य शब्द सर्वोच्च न्यायालय और उसके न्यायाधीशों की संपूर्णता के खिलाफ एक घोर अपमान है।