पाटलिपुत्र विवि जेडी वीमेंस कॉलेज की छात्राएं सोमवार को बड़ी तैयारी के साथ आंदोलन के लिए सड़क पर उतरीं। छात्राएं बेली रोड फ्लाइओवर और बेली रोड मुख्य सड़क को जाम कर अपना विरोध दर्ज कराया। इस दौरान सड़कों पर वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद प्रदर्शन कर रही छात्राओं को सड़क से हटाया। हालांकि इसके बाद आक्रोशित छात्राएं स्कूल गेट के पास नारेबाजी शुरू कर दी।


इससे पहले रविवार को छात्र नेता हेना परवीन ने कहा कि कहा था कि प्राचार्या और कुलपति को छात्राओं की वाजिब मांग माननी पड़ेगी। जेडी वीमेंस कॉलेज में लड़कों के प्रवेश के लिए पीजी विभाग नहीं खुलने देंगे। बिहार प्रादेशिक माध्यमिक शिक्षक शिक्षकेत्तर कर्मचारी महासंघ के प्रांतीय अध्यक्ष राजकिशोर प्रसाद साधु ने छात्राओं की लड़ाई में साथ देने की बात कही।

शिक्षक नेता ने कहा है कि वर्ष 1985 में छात्र एवं छात्राओं की पढ़ाई की व्यवस्था को अलग कर कन्या विद्यालय और महिला महाविद्यालय की अलग-अलग व्यवस्था की गई। महासंघ ने मांग की है कि इस कॉलेज में महिलाओं की शिक्षा के लिए पीजी विभाग का विस्तार किया जाये न कि लड़कों के प्रवेश की इजाजत दी जाय। उन्होंने मुख्यमंत्री और राज्यपाल से इस मामले में दखल देकर पाटलिपुत्र विवि के कुलपति को ऐसे निर्णय से रोकने की मांग की है।


जेडी वीमेंस की जिस नवनिर्मित बिल्डिंग में विवि प्रशासन अपना पीजी विभाग खोलना चाह रहा है, दरअसल वह आर्ट्स संकाय की छात्राओं की पढ़ाई के लिए बना है। छात्र संगठन अब इस बात को मुद्दा बना रहे कि कॉलेज परिसर में संसाधन की पहले से कमी है और कमरों की कमी से आर्ट्स की छात्राएं जैसे-तैसे पढ़ाई कर रही हैं। ऐसे में अगर विवि इसे अपने कब्जे में ले लेता है तो फिर छात्राएं पढ़ेंगी कहां। कॉलेज की छात्राएं शैल कुमारी, सोनी कुमारी, मोनी कुमारी, समृद्धि सिंह सहित अन्य छात्राएं इस बात को लेकर चिंता में हैं।

कॉलेज की छात्राओं को दिक्कत नहीं होने देंगे। पीजी विभाग तक आने-जाने के लिए रास्ता भी अलग रहेगा। कुछ लोग छात्राओं को मिसगाइड कर रहे है। हम छात्राओं की सुरक्षा का वादा करते हैं। हालांकी कॉलेज के प्रिंसिपल डा. श्यामा राय ने कहा कि कुछ लोग छात्राओं को मिसगाइड कर रहे हैं। हम छात्राओं को पीजी विभाग तक आने-जाने के लिए रास्ते की निर्माण कराने का आश्वान दिया है।