सीएए को लेकर देश के अलग-अलग राज्यों में हिंसा का माहौल है। पूर्वोत्तर की आग दिल्ली में जमकर कहर बरसा रही है। कई राज्य प्रदर्शन की आग में जल रहे हैं। बयानबाजी के दौर में सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने कहा है कि वे अपने राज्य में नागरिकता संशोधन कानून लागू नहीं करेंगे, क्योंकि संविधान के अनुच्छेद 371 (f) के तहत राज्य को विशेष दर्जा हासिल है।

विपक्षी दलों की जमकर की आलोचना

विपक्षी दलों की आलोचना करते हुए तमांग ने कहा कि निहित स्वार्थ वाले कुछ लोग नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जनता को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य पर इसका कोई असर नहीं होगा। उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा संसद में यह स्पष्ट करने के बावजूद कि राज्य विधानसभा की मंजूरी के बिना यह कानून सिक्किम में लागू नहीं होगा, विपक्षी पार्टियां लोगों को गुमराह कर रही हैं।


गृहमंत्री दे चुके हैं आश्वासन

मुख्यमंत्री का कहना है कि विपक्षी पार्टियां-कांग्रेस, हमरो सिक्किम पार्टी और सिक्किम रिपब्लिकन पार्टी इस बात का डर दिखा चुकी हैं कि सिर्फ 6 लाख की आबादी वाले सिक्किम में जबरन इस कानून को लागू कर दिया जाएगा। तमांग ने कहा कि हमें पहले ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह द्वारा आश्वासन दिया गया है कि नागरिकता संशोधित कानून सिक्किम में लागू नहीं होगा क्योंकि राज्य को संविधान के अनुच्छेद 371 (एफ) के तहत विशेष दर्जा प्राप्त है।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360