जदयू के दूसरी बार अध्यक्ष बने सीएम नीतीश कुमार (cm nitish kumar ) ने केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने संबंधी केसी त्यागी (kc tyagi statement) के बयान को सिरे से खारिज कर दिया है। सीएम ने यहां कहा कि यह सब फालतू बात है। त्यागी ने पार्टी की राष्ट्रीय परिषद बैठक के बाद जदयू के केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने की संभावना जताई थी। नीतीश कुमार ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है। 

बयान को फालतू करार दिया

इस तरह के बयान को उन्होंने फालतू कार दिया। त्यागी (kc tyagi statement) ने कहा था कि अगर संसद में संख्याबल के समानुपातिक हिसाब से जदयू को केंद्रीय मंत्रिपरिषद में जगह मिले तो पार्टी सरकार में शामिल हो सकती है। हालांकि उन्होंने संख्या के बारे में कुछ नहीं बताया कि जदयू को कितना मंत्री पद चाहिए। त्यागी यह बताने से नहीं चूके कि बिहार में एनडीए सरकार में भाजपा को उपमुख्यमंत्री का पद दिया गया है।

महाराष्ट्र में विवाद सुलझने के आसार

उधर, महाराष्ट्र में नयी सरकार के गठन को लेकर भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना (bjp shiv sena) के बीच आयी तल्खी के सुलझने के आसार नजर आने लगे। दोनों पार्टियों के शीर्ष नेताओं के बीच गुरुवार को होने वाली बैठक में राज्य में सरकार गठन पर कोई फैसला लिये जाने की उम्मीद है। भाजपा के विधायक दल की हुई बैठक में देवन्द्र फडणवीस को नेता चुना गया। शिव सेना के विधायक दल की बैठक होनी है, जिसमें पार्टी के नेता को चुने जाने की संभावना है। भाजपा सूत्रों ने बताया कि शिवसेना के नेताओं के साथ भाजपा के शीर्ष नेताओं की एक बैठक हो सकती है जिसमें दोनों दलों के बीच राज्य में नयी सरकार के गठन को लेकर कोई समाधान निकल सकता है। दोनों दलों ने हाल में संपन्न विधानसभा चुनाव गठजोड़ कर लड़ा था। चुनाव परिणाम आने के बाद मुख्यमंत्री को लेकर शिव सेना 50:50 के फार्मूले पर अड़ी हुई है जबकि भाजपा इससे सहमत नहीं है। राज्य की 288 सीटों वाली विधानसभा में भाजपा को 105 और शिव सेना को 56 सीटें मिली है।