त्रिपुरा के मुख्यमंत्री विप्लव कुमार देव ने महाराजा बीर विक्रम माणिक्य की 110 वीं जयंती के अवसर पर यहां एक समारोह में विशेष सोने का सिक्का जारी किया। देव ने बीर विक्रम माणिक्य के योगदान को याद करते हुए बताया कि 1923 से 1947 तक उनके शासन में राज्य में बड़े बुनियादी ढांचों को निर्माण किया गया, जिनका अब भी उपयोग किया जा रहा है।


उन्होंने सोने के सिक्के का डिजाइन करने वाले जौहरी की सराहना करते हुए कहा कि राजतंत्र से लोकतंत्र में बदलने के बावजूद राज्य के लोग अपने अंतिम राजा को याद करते हैं और उनका सम्मान करते हैं।


उन्होंने कहा कि सोने के सिक्के पर महाराजा का चित्र और दूसरी ओर त्रिपुरा रियासत का चिह्न दर्शाया गया है। उज्ज्यंत महल में एक विशेष स्वतंत्रता दिवस समारोह में मुख्यमंत्री देव, उपमुख्यमंत्री, शाही परिवार के सदस्य जिष्णु देव वर्मा और महाराजा की पोती महाराजकुमारी प्रज्ञा देव बर्मन की उपस्थिति में गुरुवार को सोने का सिक्का जारी किया गया।


मुख्यमंत्री ने कहा कि आधुनिक त्रिपुरा के वास्तुकार को स्वर्णिम श्रद्धांजलि देना वास्तव में एक विशेषाधिकार था, जिन्होंने इसे देश में त्रिपुरा को सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने का सपना देखा और उन्होंने कहा, सरकार महाराजा की इच्छा को भूली नहीं है और सरकार उनके उठाये गये कदमों पर काम कर रही है।


हाल ही में एक हवाई अड्डे का नाम महाराजा बीर विक्रम रखा गया था। राजा ने कई स्कूलों, कॉलेजों की स्थापना और निकटवर्ती राज्य में प्रचुर मात्रा में पायी जाने वाली प्राकृतिक गैस का पता लगाने के लिए बर्मा कंपनी को लगाया था।