दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को कोविड-19 बीमारी नहीं हुई है। उनका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया है। उन्होंने मंगलवार सुबह अपना कोरोना टेस्ट के लिए अपना सैंपल दिया था। अब सैंपल की जांच रिपोर्ट आ चुकी है। एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। केजरीवाल कोविड-19 महामारी के कुछ लक्षण आने के बाद रविवार से ही आइसोलेशन में थे।

उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की तबीयत ठीक नहीं है। उन्हें बुखार है और गले में खरास है, इसीलिए मुख्यमंत्री ने खुद को आइसोलेट कर लिया। वह कोई बैठक भी नहीं कर रहे हैं। मुख्यमंत्री स्वयं को पहले ही सभी सरकारी कार्यक्रमों एवं बैठकों से अलग कर चुके हैं। सोमवार को उन्होंने किसी अधिकारी से मुलाकात नहीं की। मुख्यमंत्री ने स्वयं को अपने आवास के अंदर आइसोलेशन में रखा था।

मंगलवार को मुख्यमंत्री की गैर-मौजूदगी में ही स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट की एक अहम बैठक हुई। उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा कि केंद्र के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है कि दिल्ली में सामुदायिक संक्रमण नहीं हुआ है। वहीं ऐसा आकलन है कि 31 जुलाई तक संक्रमण के मामले बढ़कर 5.5 लाख तक पहुंच सकते हैं। दिल्ली सरकार के अधिकारियों के मुताबिक इससे पहले रविवार सुबह मुख्यमंत्री ने एक कैबिनेट मीटिंग की थी। इस बैठक में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, पर्यावरण मंत्री गोपाल राय, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन सहित कई मंत्रियों ने हिस्सा लिया था। बैठक में मुख्य सचिव विजय देव भी मौजूद थे। हालांकि बुखार आने के बाद मुख्यमंत्री ने अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए।