नागरिकता विधेयक मुद्दे को लेकर मंगलवार को मणिपुर का जनजीवन प्रभावित रहा। नागरिकता विधेयक के विरोध में राज्य में महिला विक्रेताओं ने आज अपनी दुकानों को बंद कर रखा और धरना दिया। महिलाओं के बाजार ख्वारम्बंद, कीथेल और शहर की अधिकतर दुकानें विरोध स्वरूप बंद रहीं।


राज्य के लगभग 64 संगठनों और सभी वर्गों और हिस्सों के लोग राज्य में नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध के लिये एकत्र हुये। सोमवार को एक दिन की लंबी चर्चा के बाद राज्यव्यापी हड़ताल का करने निर्णय लिया गया।


तीस जनवरी को आधी रात से 24 घंटे की सामान्य हड़ताल होगी। समिति के सदस्य आज नागरिकता विधेयक के बारे में चर्चा करने के लिए महिलाओं के बाजार में भी गये। समिति ने चर्चा के लिए एक फरवरी को सार्वजनिक बैठक करने की योजना बनायी है।


शिक्षा मंत्री राधेश्याम ने बताया कि राजनीतिक दलों की एक टीम इम्फाल से रवाना हुई है। कांग्रेस,एमपीपी, जेडीयू और वाम दलों के साथ ही विभिन्न राजनीतिक दलों का 14 सदस्यीय दल आज केंद्रीय नेताओं से मिलेगा और मणिपुर और पूर्वोत्तर राज्यों की जनता की आशंकाओं से उन्हें अवगत करायेगा।