बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से अलग होकर इस बार का विधान सभा चुनाव लड़ चुकी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने फिर दावा किया कि केंद्र में उनकी पार्टी राजग का हिस्सा है और आगे भी बनी रहेगी। 

जमुई(सु) से सांसद पासवान ने विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद बुधवार को यहां पार्टी के प्रदेश कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अपने बलबूते चुनाव में उतरी उनकी पार्टी को पूर्व के चुनाव की अपेक्षा इस बार मतों का प्रतिशत अधिक मिला है। पार्टी का जनाधार मजबूत हुआ है। इस बार के विधान सभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को फायदा पहुंचाना और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को नुकसान करना ही उनका लक्ष्य था। उनकी पार्टी अपने मकसद में कामयाब रही है। 

पासवान ने एक सवाल के जवाब में कहा कि केंद्र में उनकी पार्टी राजग का हिस्सा है और आगे भी बनी रहेगी। वर्ष 2025 के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी पूरे दमखम से चुनाव लड़ेगी। मुख्यमंत्री एवं जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार को बधाई देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बिहारी होने के नाते वह कुमार को जरूर बधाई देंगे लेकिन धन्यवाद के असली हकदार भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं, जिनको बिहार की जनता ने जनादेश दिया है। 

पासवान ने इससे पूर्व पार्टी की हार को देखते हुए ट्वीट किया था कि सभी लोजपा प्रत्याशी बिना किसी गठबंधन के अकेले अपने दम पर शानदार चुनाव लड़े। पार्टी का वोट शेयर बढ़ा है। लोजपा इस चुनाव में ‘बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट’ के संकल्प के साथ गई थी। पार्टी हर जिले में मजबूत हुई है। इसका लाभ पार्टी को भविष्य में मिलना तय है। उल्लेखनीय है कि विधानसभा चुनाव का परिणाम अब आ चुका है। राज्य में एक बार फिर से राजग की वापसी हुई है। सीटों के मामले में राजग में भाजपा को जहां फायदा हुआ है वहीं जदयू को नुकसान हुआ है। राजग से नाता तोड़कर अलग चुनाव लड़ी लोजपा को एक सीट पर ही संतोष करना पड़ा है। लोजपा के कारण जदयू को लगभग 18 सीटों पर नुकसान उठाना पड़ा। वहीं, चार सीट पर विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी), एक एक सीट पर भाजपा और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) को नुकसान हुआ है।