बीजिंग । चीन के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने रोशनी पर आधारित दुनिया का पहला क्वांटम कंप्यूटर  बना लिया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, यह कंप्यूटर पारंपरिक सुपर कंप्यूटर के मुकाबले कहीं अधिक तेजी से काम कर सकता है। चीन की सरकारी मीडिया में शनिवार को प्रकाशित खबर के मुताबिक, यह वैज्ञानिकों को मिली बड़ी सफलता है और इसकी मदद से इसी तरह की और भी शक्तिशाली मशीन बनाई जा सकेंगी। 

चीन के सरकारी अखबार चाइना डेली' ने जर्नल साइंस में प्रकाशित एक रिपोर्ट का हवाला दिया है। इसमें कहा गया है कि 'जियूझांग क्‍्वांट्म कंप्यूटर! क्वांटम कंप्यूटेशनल एडवांटेज को भरोसेमंद तरीके से प्रदर्शित कर सकता है, जो कंप्यूटर क्षेत्र में बड़ी उपलब्धि है।

क्या होते हैं क्वांटम कंप्यूटर : बता दें कि क्वांटम  कंप्यूटर बहुत तेजी से काम करते हैं जो सामान्य कंप्यूटर के लिए संभव नहीं है। क्वांटम कंप्यूटर की मदद से भौतिक विज्ञान, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और चिकित्सा क्षेत्र में उपलब्धि हासिल होती है।

खबर के मुताबिक, इस सुपर कंप्यूटर को 'जियूझांग' नाम गणित के प्राचीन चीनी ग्रंथ के नाम पर दिया गया है। यह क्वांटम कंप्यूटर जो गणना मात्र 200 सेकेंड में कर सकता है, उसे दुनिया के सबसे तेज कंप्यूटर 'फुगाकू को करने में लंबा समय लग जाएगा ।

उल्लेखनीय है कि पिछले साल गूगल द्वारा 53 क्यूबिट क्वांटम कंप्यूटर बनाने की घोषणा के बाद सुपर कंप्यूटर के क्षेत्र में यह दूसरी बड़ी उपलब्धि है।