नई दिल्ली। भारत के पड़ौसी देश चीन को लेकर चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। यहां पर एक रियल एस्टेट कंपनी ने खरीदारों को लुभाने के लिए एक अनोखा तरीका खोज निकाला है। कंपनी ने घर खरीदने के इच्छुक लोगों से डाउन पेमेंट के तौर पर गेहूं और लहसुन को स्वीकार करना शुरू किया है। यह रियल एस्टेट कंपनी हेनान स्थित सेंट्रल चाइना रियल एस्टेट है, जिसने बाकायदा एक विज्ञापन भी प्रकाशित किया है। इस विज्ञापन में कहा गया है कि घर खरीदने के लिए गेहूं दीजिए। 

यह भी पढ़ें : दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के खिलाफ दर्ज हुआ 100 करोड़ रुपये का मानहानि का दावा

कंपनी के इस विज्ञापन में कहा गया है कि खरीदार घर खरीदने के लिए डाउन पेमेंट के तौर पर दो युआन प्रति कैटी की दर से गेहूं का इस्तेमाल कर सकते हैं। कैटी चीन की एक यूनिट है, जो लगभग 500 ग्राम के बराबर होती है। बता दें कि एक घर की खरीद के लिए डाउन पेमेंट 160,000 युआन है। 

सेंट्रल चाइना रियल एस्टेट के एक सेल्स एजेंट ने बताया कि क्षेत्र के किसानों को मुख्य तौर पर आकर्षित करने के लिए इस तरह का विज्ञापन शुरू किया गया है। कंपनी का यह प्रमोशन सोमवार को शुरू हुआ और 10 जुलाई तक रहेगा। एजेंट ने पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि कंपनी 600,000 से 900,000 युआन तक के घर बेच रही है।

पिछले महीने सेंट्रल चाइना ने एक अन्य विज्ञापन प्रकाशित किया था, जिसमें कहा गया था कि घर खरीदने के इच्छुक पांच युआन प्रति कैटी की दर से डाउन पेमेंट के तौर पर लहसुन का इस्तेमाल कर सकते हैं। विज्ञापन में कहा गया कि लहसुन के इस प्रमोशन से 852 लोग प्रभावित हुए और 30 सौदे हुए। लहसुन और गेहूं का थोक बाजार मूल्य 1।5 युआन प्रति ग्राम है।

बता दें कि चीन में कोरोना की वजह से प्रॉपर्टी बाजार में लंबे समय से गिरावट रही है। जनवरी से मई के दौरान प्रॉपर्टी कंपनियां बिक्री बढ़ाने को लेकर जूझती नजर आई। यही वजह रही कि फ्री पार्किंग लॉट और घर खरीद के बाद रेनोवेशन जैसे लुभाने ऑफर देकर निवेशकों का ध्यान खींचा गया। इस साल चीन के कई शहरों में भी प्रॉपर्टी खरीद को लेकर नियमों में छूट दी गई। इसका मकसद इस सेक्टर में फिर से जान फूंकना है। 

यह भी पढ़ें : बाढ़ प्रभावित लोगों से राहत शिविर में मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा, कहा- जनता का दुख कम करने का हर संभव प्रयास

छोटी-छोटी डाउन पेमेंट्स और सब्सिडी जैसे कदमों से खरीदारों को लुभाया जा रहा है। प्रॉपर्टी एजेंट्स का कहना है कि लोगों की खरीद क्षमता एक बार फिर से बढ़ रही है लेकिन देश में आर्थिक अनिश्चितता की वजह से इसे अभी टर्निंग प्वॉइन्ट कहना जल्दबाजी होगा।